खनिज कर्मचारी बनकर ट्रैक्टर मालिको से रूपयो की वसुली

0
3

पीडित ट्रैक्टर मालिको ने की बिरसा थाने में लिखित शिकायत

rafi ahmad ansari
बालाघाट। बिरसा विकासखंड में पंचायत में शासकीय कार्य हेतू रेत सप्ताई कर रहे ट्रैक्टर मालिको से रूपयो की अवैध वसूली का मामला प्रकाश में आया है जहां पीडित ट्रैक्टर मालिको ने बिरसा थाने मे वसूलीकर्ताओ के खिलाफ शिकायत की है। जानकारी अनुसार मामला 01-02 अक्टूम्बर की दरमियानी रात्री का है जहां ग्राम छपला निवासी शिकायतकर्ता सुमनसिंह पिता समरत सिंह धुर्वे द्वारा अपने कुछ सहयोगियों के साथ ग्राम पंचायत के द्वारा करवायें जा रहे निर्माण कार्य में उपयोग हेतू रेत की सप्लाई की जा रही थी, कि इस दौरान ही नरेंद्र राजपूत, नितेश बंसोड, गुलाब मरकाम, संतोष ठाकरे सहित 8-10 लोगो के द्वारा जबरन गाली गलौच कर और अपने आप को खनिज विभाग का कर्मचारी बताकर 55 हजार रूपये की राशि अवैध रूप से वसूली गई। इस संबंध में पीडित सुमनसिंह धुर्वे के द्वारा बिरसा थाने में लिखित रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।

शिकायत पत्र में कथित घटना के बारे में शिकायतकर्ता सुमनसिंह धुर्वे ने बताया कि जब वह अपने साथी गेंदलाल पारधी निवासी छपला, विसंबर उईके निवासी सुकतरा, हुमेश पटले निवासी जगला के साथ मिलकर पंचायत के निर्माण कार्य के लिये रेत की सप्लाई कर रहे थे। रात्री 02 बजे चारो के ट्रैक्टर मंडई चौराहा पहुचें थे कि इस दौरान तीन गाडियो से लगभग 12-13 लोग आये और टेक्टर रूकवाकर अपनी गाडी खडी कर दिये। इस दौरान गाडी से नरेंद्र राजपूत,नितेश बंसोड, गुलाब मरकाम, संतोष ठाकरे सहित 8-10 लोग उतरे और ट्रैक्टर पकडकर अश्लिल गालियां दी। इस दौरान ग्राम मरारीटोला निवासी नरेद्र राजपूत द्वारा गाली गलौच करते हुए धमकाया कि मै खनिज विभाग का कर्मचारी है, तुम ट्रैक्टर ट्राली में रेत भर ले जा रहे है जो अवैध काम है, चारो टेÑेक्टर को जप्त करना है। इस दौरान ट्रैक्टर मालिको ने पंचायत के काम से रेत सप्लाई करना बताया, लेकिन नरेंद्र राजपूत ने उनकी एक ना सुनी और ट्रैक्टर छोडने के एवज मेंचारो टेक्टर वालो से 50-50 हजार रूपये की मांग की। अन्यथा टेÑक्टर जप्त करने की धमकी दी। शिकायतकर्ता ने बताया कि लाख विनती और समझाईश के बाद भी वे लोग रूपये की मांग पर अडे रहे, जहां चारो ट्रैक्टर मालिको को विवश होकर उन्हे लगभग 55 हजार रूपयें देने पडे। जहां भयभित होकर टेÑक्टर मालिको ने उनकी मांग स्वीकार कर ली और आपस में राशि जमा करके नरेंद्र राजपूत को 55 हजार रूपयें दियें।

इस दौरान पुन: नरेंद्र राजपूत ने उन्हे धमकी दी और शेष राशि 2-3 दिनो देने का कहा, अन्यथा ट्रैक्टर जप्त करने की बात कही। इसके बाद सभी लोग चले और जाते समय बोल गये कि यह बात किसी को बताना नही, अन्यथा जान से मार देगें। इस मामले से भयभित होकर शिकायतकर्ताओ ने नरेंद्र राजपूत सहित सभी के खिलाफ बिरसा थाने में शिकायत कर कार्यवाही की मांग की है और उनके द्वारा वसूली गई राशि वापस दिलायें जाने की मांग की।