मजदूर पर किस्मत मेहरबान, दूसरी बार मिला बेशकीमती हीरा

0
10

shadik khan

पन्ना। हीरों की खदानों के लिए प्रसिद्ध मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में 35 वर्षीय एक व्यक्ति को खदान की खुदाई के दौरान मंगलवार को 10।69 कैरेट का उच्च क्वालिटी का एक बेशकीमती हीरा मिला है। जानकारों के मुताबिक, यह नीलामी में 50 लाख रुपए से एक करोड़ रुपए में बिक सकता है। हीरा कार्यालय पन्ना के हीरा अधिकारी आरके पाण्डेय ने बताया कि आनंदी लाल कुशवाहा को आज उज्ज्वल क्वालिटी का एक बेशकीमती हीरा मिला है। इसका वजन 10.69 कैरेट है।

उन्होंने कहा कि यह हीरा उसे पन्ना जिला मुख्यालय से करीब 15 किलोमीटर दूर रानीपुर की उथली हीरा खदान की खुदाई के दौरान मिला है।उन्होंने कहा कि कुशवाहा ने इस हीरे को यहां हीरा कार्यालय में जमा कर दिया है और इसे बेचने के लिए आगामी नीलामी में रखा जाएगा। इस हीरे की नीलामी से जो भी पैसा मिलेगा, वह टैक्स काट कर उस व्यक्ति को दिया जाएगा।

पहले भी इसी खदान में हीरा मिल चुका है
इसी बीच, आनंदी लाल कुशवाहा ने बताया, ‘‘इससे पहले भी इसी खदान की खुदाई के दौरान मुझे 70 सेंट का हीरा मिल चुका है और अब मुझे 10.69 कैरेट का बेशकीमती हीरा मिला है।’’ हीरा की जानकारी रखने वालों के अनुसार इस हीरे की कीमत 50 लाख रुपये से एक करोड़ रुपये तक मिल सकती है।
बता दें कि पिछले साल भी पन्ना में यहां के रहने वाले बृजेश उपाध्याय को खदान की खुदाई के दौरान 29.46 कैरेट का हीरा मिला था। तब पिछले 20 दिनों में यह चौथा अवसर था जब एक महीने के दौरान ही पन्ना की जमीन से 4 बेशकीमती हीरे मिले थे। इन सभी हीरों में बृजेश को मिला हीरा सबसे कीमती था। अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत करोड़ों में बताई जा रही थी।

पिछले दो दशक से ज्यादा समय से हीरे की तलाश में लगे बृजेश की तब खुशी का आज ठिकाना नहीं था। क्योंकि उसे पता था कि उसने जो 29.46 कैरेट का हीरा धरती के नीचे से ढूंढ निकाला है, उसकी कीमत हजार या लाख में नहीं, बल्कि करोड़ों में है। जेम क्वालिटी के इस हीरे को स्थानीय प्रशासनिक अधिकारी बेशकीमती बता रहे हैं। बृजेश ने बताया था कि खदान में जब पहली बार इस हीरे पर उसकी नजर पड़ी थी, तो एकबारगी लगा था कि कांच का टुकड़ा है। लेकिन गौर से देखने पर पता चला कि यह बेशकीमती हीरा है।