भारत और ऑस्‍ट्रेलिया की नौसेनाओं ने हिंद महासागर दो दिन की मेगा-एक्‍सरसाइज की

0
7

नई दिल्‍ली, चीन के साथ जारी तनाव के बीच भारतीय नौसेना जापान के साथ मिलकर युद्धाभ्‍यास कर रही है। उत्‍तरी अरब सागर में दोनों देशों की नौसेनाओं ने तीन दिन की मिलिट्री एक्‍ससाइज आयोजित की है। शनिवार को पहले दिन कई तरह की मिलिट्री ड्रिल्‍स को अंजाम दिया गया है। भारत और जापान के बीच 9 सितंबर को ऐतिहास‍िक समझौता होने के बाद यह पहला साझा युद्धाभ्‍यास है। दोनों देशों की सेनाएं अब ईंधन, मरम्मत व अन्य जरूरतों के लिए एक-दूसरे की सहायता ले सकती हैं। इसी हफ्ते, भारत और ऑस्‍ट्रेलिया की नौसेनाओं ने हिंद महासागर क्षेत्र में दो दिन की मेगा-एक्‍सरसाइज की थी।

यह JIMEX का चौथा एडिशन
भाारत-जापान समुद्री अभ्यास (JIMEX) का चौथा संस्करण हिंद महासागर और हिंदप्रशांत क्षेत्र में चीन के बढ़ते सैन्य प्रभाव के बीच हो रहा है। JIMEX सीरीज समुद्र सुरक्षा पर खास ध्यान देते हुए जनवरी, 2012 में शुरू हुई थी। आखिरी बार विशाखापट्नम तट पर युद्धाभ्‍यास हुआ था। नेवी के प्रवक्‍ता के अनुसार, स्‍वदेशी स्‍टील्‍थ डिस्‍ट्रॉयर ‘चेन्‍नई’, टेग क्‍लास स्‍टील्‍ड फ्रिगेट ‘तरकश’ और फ्लीट टैंकर ‘दीपक’ इस युद्धाभ्‍यास में शामिल हुए थे।

रूस के साथ भी अभ्‍यास कर चुकी नौसेना
भारतीय और रूसी नौसेनाओं ने 4 सितंबर को बंगाल की खाड़ी में युद्धाभ्‍यास किया था। इस अभ्यास में जमीनी और एंटी-एयरक्राफ्ट डील, गोलीबारी अभ्यास, हेलीकॉप्टर ऑपरेशन और सीमैनशिप इवोल्यूशन शामिल हैं। इस अभ्यास को इंद्र नेवी के रूप में जाना जाता है जो इसके 11वें संस्करण में है। यह भारतीय नौसेना और रूसी नौसेना के बीच द्विवार्षिक द्विपक्षीय समुद्री अभ्यास है।

पीएम मोदी ने जापान के नए प्रधानमंत्री से की थी बात
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 सितंबर को जापान के अपने समकक्ष योशिहिदे सुगा से फोन पर बातचीत की थी। इस दौरान दोनों नेताओं ने सहमति जताई कि भारत और जापान के मजबूत संबंध मौजूदा क्षेत्रीय व वैश्विक चुनौतियों से निपटने में मदद करेंगे। उन्होंने पिछले कुछ सालों में दोनों देशों के बीच विशेष रणनीतिक और वैश्विक भागीदारी में हुई प्रगति को और मजबूत करने का इरादा जताया। प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) से जारी बयान में कहा गया कि मोदी ने प्रधानमंत्री के रूप में सुगा की नियुक्ति पर उन्हें बधाई दी। सुगा केा वार्षिक द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन के लिए भारत आने का आमंत्रण भी दिया गया।