हेमंत कटारे को मेहगांव से टिकट, मप्र कांग्रेस ने जारी की तीसरी सूची

0
11

मप्र उपचुनाव के लिए कांग्रेस के 27 नाम तय

भोपाल। मध्य प्रदेश में उपचुनाव के लिए कांग्रेस ने प्रत्याशियों की तीसरी लिस्ट भी जारी कर दी है। तीसरी लिस्ट में कांग्रेस ने 3 सीटों पर उम्मीदवार घोषित किए हैं, वहीं एक सीट पर प्रत्याशी बदल दिया है। कांग्रेस ने भिंड की मेहगांव सीट से हेमंत कटारे को अपना प्रत्याशी बनाया है। कांग्रेस ने 28 सीटों में से 27 पर उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। अब सिर्फ ब्यावरा सीट पर नाम की घोषणा बाकी है।

कांग्रेस ने तीसर लिस्ट में हेमंत कटारे के साथ मुरैना से राकेश मावई और मलहरा सीट से राम सिया भारती को उम्मीदवार बनाया है। साथ ही बदनावर से पहले उम्मीदवार बनाए गए अभिषेक सिंह की जगह अब कमल पटेल को टिकट दिया।

तीसरी लिस्ट       

सीट                             उम्मीदवार

मुरैना                           राकेश मावई
मेहगांव                         हेमंत कटारे
मलहरा                         राम सिया भारती
बदनावर अभिषेक सिंह का टिकट रद्द किया
बदनावर कमल पटेल को अभिषेक की जगह टिकट दिया

हेमंत कटारे सब पर भारी पड़े
भिंड जिले की मेहगांव सीट में कांग्रेस के लिए प्रत्याशी चयन सबसे बड़ा सिरदर्द बना। सर्वे के बाद चुनाव जीतने योग्य प्रत्याशी के रूप में सामने आए चौधरी राकेश सिंह चतुर्वेदी के नाम पर पार्टी के ही कई वरिष्ठ नेताओं के विरोध के बाद यह स्थिति निर्मित हुई है। लगभग एक साल पहले कांग्रेस में घर वापसी करने वाले राकेश चतुर्वेदी 10 वर्ष पहले ही विधानसभा में कांग्रेस विधायक दल के उप नेता रहते हुए भी अचानक भाजपा में चले गए थे। उनकी यही भूल उनके रास्ते का सबसे बड़ा कांटा बन गई। इसके अतिरिक्त विकल्प के रूप में पूर्व विधायक हेमंत कटारे का नाम सामने आया। उन्हें कमलनाथ की पसंद होने का फायदा मिला और वे सब पर भारी पड़े।

ब्यावरा में इस कारण पेंच फंसा
विधायक गोवर्धन सिंह दांगी के निधन से खाली हुई राजगढ़ जिले के ब्यावरा सीट पर कांग्रेस ने अभी प्रत्याशी घोषित नहीं किया है। तीसरी लिस्ट में भी ब्यावरा को छोड़ दिया गया। अब तक जिन नामों पर विचार चल रहा है, उनमें पूर्व विधायक रामचंद्र दांगी और पुरुषोत्तम दांगी शामिल हैं। साथ ही सहानुभूति वोट आने की दृष्टि से दिवंगत विधायक दांगी के बेटे ओम दांगी के नाम पर भी विचार हो सकता है। इस क्षेत्र में हर बार जाति के समीकरण को साधने की दृष्टि से पार्टी टिकटों का वितरण करती है। दांगी और सोंधिया बाहुल्य वाले इलाके में लोधी, गुर्जर, मीणा और यादव मतदाता निर्णायक साबित होते हैं। यहां से दिग्विजय सिंह की पसंद ज्यादा मायने रखती है। इसी कारण यहां पर पंसद के उम्मीदवार की जगह जातीय समीकरण पर ज्यादा ध्यान दिया जा रहा है।

राकेश मावई सिंधिया समर्थक हैं
विधायक रघुराज कंसाना के इस्तीफे के बाद मुरैना सीट पर कांग्रेस के दो प्रबल दावेदार राकेश मावई और दिनेश गुर्जर के बताए गए। राकेश मावई सिंधिया समर्थक माने जाते थे और वे कांग्रेस छोड़कर दो-चार दिनों के लिए भाजपा भी ज्वाइन कर चुके थे। बाद में फिर से कांग्रेस में वापसी की। वर्तमान में वे जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष हैं और पार्टी के आंतरिक सर्वे में उन्हें चुनाव जीतने के योग्य प्रत्याशी माना गय। जबकि दिनेश गुर्जर दिग्विजय सिंह और कमलनाथ के समर्थक होने के साथ ही वर्तमान में किसान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भी हैं। लेकिन पार्टी ने राकेश मावई पर ही विश्वास जताया।