उपचुनाव में 9 सीटों पर दलबदलुओं के बीच मुकाबला

0
4

उपचुनाव में कई विधानसभा सीटों पर रोचक घमासान

भोपाल। मध्य प्रदेश की कुछ सीटों पर इस बार रोचक मुकाबला होने वाला है। इनमें से ज्यादातर ग्वालियर-चंबल संभाग में हैं। उपचुनाव में कुल 9 ऐसी सीटें हैं, जहां कोई भी प्रत्याशी जीते वो जीत दलबदलू की ही होगी। प्रदेश की 9 विधानसभा सीटें ऐसी हैं, जहां भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पार्टियों ने दूसरे दलों से आए प्रत्याशियों को मैदान में उतारा है। इनमें से ज्यादातर कांग्रेस और भाजपा के दलबदलू हैं, जो भाजपा से कांग्रेस और कांग्रेस से भाजपा में गए हैं।
मध्य प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने जा रहा है। इनमें 9 विधानसभा सीटों पर रोचक मुकाबला होगा। मुरैना जिले की सुमावली और अंबाह सीट, ग्वालियर जिले की ग्वालियर पूर्व और डबरा सीट, दतिया जिले की भांडेर, शिवपुरी जिले की करैरा, गुना जिले की बमौरी, सागर जिले की सुरखी, इंदौर जिले की सांवेर विधानसभा सीटों पर दलबदलू की जीत तय है।

इन नौ सीटों पर जीतेगा दलबदलू

सुमावली विधानसभा सीट
– भाजपा ने कांग्रेस से आए ऐंदल सिंह कंसाना को प्रत्याशी बनाया और कांग्रेस ने भाजपा से आए अजब सिंह कुशवाहा को मैदान में उतारा है।
– अंबाह विधानसभा सीट
भाजपा ने कांग्रेस से आए कमलेश जाटव को टिकट दिया। कांग्रेस ने बसपा से आए सत्यप्रकाश सकवार को मैदान में उतारा।
ग्वालियर पूर्व विधानसभा सीट
– भाजपा ने कांग्रेस से आए मु्न्ना लाल गोयल को प्रत्याशी बनाया। कांग्रेस ने भाजपा से आए सतीश सिकरवार को मैदान में टिकट दिया।
-डबरा विधानसभा सीट
– भाजपा ने कांग्रेस आई इमरती देवी को मैदान में उतारा। कांग्रेस ने भाजपा से आए सुरेश राजे को प्रत्याशी बनाया।
-भांडेर विधानसभा सीट
– भाजपा ने कांग्रेस से आई रक्षा सिरोनिया को प्रत्याशी बनाया। कांग्रेस ने बहुजन संघर्ष दल से आए फूलसिंह बरैया को टिकट दिया।
करैरा विधानसभा सीट
– भाजपा ने कांग्रेस से आए जसवंत जाटव को उम्मीदवार बनाया। कांग्रेस ने बसपा से आए प्रागी लाल जाटव को टिकट दिया।
बमौरी विधानसभा सीट
– भाजपा ने कांग्रेस से आए महेंद्र सिंह सिसौदिया को टिकट दिया। कांग्रेस ने भाजपा से आए कन्हैया लाल अग्रवाल को अपना प्रत्याशी बनाया।
सुरखी विधानसभा सीट
– भाजपा ने कांग्रेस से आए गोविंद सिंह राजपूत को टिकट दिया। कांग्रेस ने भाजपा से आई पारुल साहू को मैदान में उतार दिया।
सांवेर विधानसभा सीट
– भाजपा ने कांग्रेस से आए तुलसी सिलावट को मैदान में उतारा है। कांग्रेस ने भाजपा से आए प्रेमचंद गड्डू को उम्मीदवार बनाया।

दलबदलुओं पर भाजपा का जवाब
इन सीटों पर भाजपा ने कांग्रेस से आए नेताओं को उम्मीदवार बनाया है, तो कांग्रेस ने भी भाजपा से आए 6, बसपा के 2 और बहुजन संघर्ष दल से आए 1 नेता को टिकट दिया है। भाजपा के नेता राज्यमंत्री भारत सिंह कुशवाहा का कहना है कि हमने कांग्रेस से आए जिन प्रत्याशियों को चुनाव मैदान में उतारा है, उन्होंने बड़ा त्याग और बलिदान दिया है। भारत सिंह के मुताबिक आज के दौर में लोग सरपंच पद नहीं छोड़ते, ऐसे में जिन लोगों ने मंत्री और विधायक पद छोड़कर भाजपा का दामन थामा है, उनका टिकट पर वैधानिक हक बनता है। पार्टी की ऐसे लोगों को टिकट देने की नैतिक जिम्मेदारी है।
कांग्रेस बोली- निस्वार्थ भाव से आए नेता
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पूर्व मंत्री लाखन सिंह यादव का कहना है कांग्रेस छोड़ भाजपा में गए लोगों ने मंत्री विधायक पद का सौदा कर भाजपा ज्वाइन की है, लेकिन हमारी पार्टी में भाजपा या अन्य पार्टी के लोग निस्वार्थ भाव से आए हैं। इसलिए हमने इन 9 सीटों पर भाजपा या अन्य दलों से आए उम्मीदवार उतारे हैं। जनता इनको आशीर्वाद देगी और कांग्रेस से दगाबाजी कर भाजपा के टिकट पर चुनाव लडऩे वालों को जनता सबक सिखाएगी।