2019वर्ल्ड कप में विजय शंकर की जगह रायुडू को टीम में होना था -सुरेश रैना

0
3

नई दिल्ली
पूर्व भारतीय क्रिकेटर सुरेश रैना ने कहा है कि पिछले साल वनडे वर्ल्ड कप में भारतीय टीम चैंपियन बन सकती थी, बशर्ते उसमें अंबाती रायूडु को मौका मिला होता। विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया को 2019 वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में हार का सामना करना पड़ा था।

2019 में आईसीसी वर्ल्ड कप शुरू होने से पहले भारतीय टीम को खिताब के सबसे प्रबल दावेदारों में गिना जा रहा था लेकिन टीम इंडिया सेमीफाइनल में हार गई। सेमीफाइनल से पहले टीम इंडिया ने जिस तरह का प्रदर्शन किया, उससे लगा था कि टीम इस बार खिताब अपने नाम कर लेगी लेकिन ऐसा हो नहीं सका। उसे न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में करीबी हार झेलनी पड़ी, जिससे टीम इंडिया वर्ल्ड कप से बाहर हो गई।

हाल में इंटरनैशनल क्रिकेट से संन्यास लेने वाले सीमित ओवरों के धुरंधर क्रिकेटर सुरेश रैना ने अब ऐसे क्रिकेटर का नाम बताया, जिसके होने से टीम इंडिया वर्ल्ड कप जीत सकती थी। रैना ने 'क्रिकबज' से कहा, 'मैं चाहता था कि रायुडू भारत के लिए नंबर-4 पर बल्लेबाजी करें। करीब डेढ़ साल से उन्होंने कड़ी मेहनत की और अच्छा प्रदर्शन किया था। हालांकि वह टीम में शामिल नहीं किए गए।'

उन्होंने कहा, '2018 के दौरे का मैंने आनंद नहीं उठाया था, क्योंकि हालात कुछ ऐसे थे, जहां रायुडू फिटनेस टेस्ट में फेल हो गए। उन्हें यह बिलकुल अच्छा नहीं लगा कि वह फिटनेस टेस्ट पास नहीं कर सके। उनकी जगह मुझे टीम में चुना गया।'

वर्ल्ड कप के दौरान टीम इंडिया को नंबर-4 के बल्लेबाज को लेकर काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। हालांकि टूर्नमेंट में ओपनरों का प्रदर्शन सराहनीय रहा। तब एमएसके प्रसाद की अगुआई वाली सिलेक्शन कमिटी ने रायुडू को वर्ल्ड कप टीम में नहीं चुना और उनकी जगह विजय शंकर को टीम में शामिल किया था। इसे लेकर काफी विवाद भी हुआ। इतना ही नहीं, रायुडू ने सोशल मीडिया पर अपना गुस्सा भी जाहिर किया था।

गत 15 अगस्त को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहने वाले रैना ने कहा, 'वह (रायुडू) नंबर-4 के लिए अच्छे बल्लेबाज थे। अगर वह वर्ल्ड कप टीम का हिस्सा होते तो शायद हम खिताब अपने नाम कर लेते। वह जिस तरह से खेलते हैं, उस नंबर के लिए सर्वश्रेष्ठ विकल्प थे। चेन्नै में ट्रेनिंग कैंप में भी उन्होंने अच्छी बल्लेबाजी की।'

पिछले साल वर्ल्ड कप के लिए ऑलराउंडर विजय शंकर और युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत को मिडिल ऑर्डर में टीम में चुना गया था लेकिन दोनों का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा। इंग्लैंड तब वर्ल्ड चैंपियन बना था जिसने फाइनल में बाउंड्री के आधार पर सुपर ओवर में न्यूजीलैंड को हराया था।