पाक रेंजर्स की गोलीबारी में 15 अफगान नागरिकों की मौत

0
5

इस्लामाबाद, पाकिस्तान और अफगानिस्तान सीमा पर जारी तनाव ने अब हिंसक रूप ले लिया है। स्थिति को काबू में करने के लिए पाकिस्तानी रेंजर्स की गोलीबारी में अफगानिस्तान क 15 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 80 से ज्यादा लोग घायल बताए जा रहे हैं। सीमा पर तनाव बढ़ने के कारण अफगानिस्तान ने अपनी आर्मी और एयरफोर्स को भी हाई अलर्ट पर कर दिया है।

ईद के कारण सीमा पर जुटे लोग
पाकिस्तान अफगानिस्तान बॉर्डर पर बलूचिस्तान में स्थित चमन सीमा चौकी कोरोना वायरस महामारी के चलते बंद कर दी गयी है। जिसके कारण इस इलाके में 100,000 से अधिक लोग बेरोजगार हो गये हैं। इस सीमा चौकी को बुधवार को खोला गया था ताकि दोनों तरफ के लोग ईद मनाने के लिए अपने मूल स्थानों पर जा पाएं। लेकिन यह चौकी उन दिहाड़ी मजदूरों के लिए बंद रखी गयी जो दिन में अफगानिस्तान जाते थे और शाम तक लौट आते थे।

पाक फौज ने अफगान नागरिकों पर की फायरिंग
बृहस्पतिवार को बड़ी संख्या में लोग फ्रेंडशिप गेट पर धरने पर बैठ गये और सीमा चौकी को खोलने की मांग करने लगे। फ्रंटियर कोर के कर्मियों ने उनसे कहा कि जब तक प्रदर्शनकारी इस जगह से नहीं चले जाते, गेट नहीं खोला जाएगा। इस बात पर प्रदर्शनकारी हिंसक हो गये और वे फ्रेंडशिप गेट पर फ्रंटियर कोर और अन्य सरकारी एजेंसियों के कार्यालयों पर हमला करने लगे। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर गोलियां चलाईं। इस कार्रवाई में 15 अफगान नागरिकों की मौत हो गई जबकि 80 लोग घायल हो गए।

अफगानिस्तान पर रॉकेट दाग रहा पाकिस्तान
अफगानिस्तान की रक्षा मंत्रालय ने आरोप लगाया है कि पाकिस्तानी फौज उसके इलाके में रॉकेट हमले कर रही है। अगर इस कार्रवाई को रोका नहीं जाता है तो अफगान फोर्स जवाबी कार्रवाई करेगी। वहीं, अफगानिस्तान के कंधार प्रांत के गवर्नर हयातुल्लाह हयात ने कहा कि पाकिस्तानी गोलीबारी की चपेट में कई रिहाइशी इलाके आए हैं।

कुरैशी बोले- अफगानिस्तान से बातचीत जारी
पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि सीमा पर पैदा हुए हालात को लेकर अफगानिस्तान सरकार से बातचीत जारी है और इसके जल्द नतीजे निकलने की संभावना है। बता दें कि, अफगानिस्तान कई बार पाकिस्तान के ऊपर आतंकवादी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगा चुका है। इसी कारण दोनों देशों के बीच रिश्ते भी सामान्य नहीं हैं।