शासकीय जमीन घोटाले मामले में कांग्रेस विधायक का प्रतिनिधि गिरफ्तार

0
3

बलरामपुर
जिले के रामानुजगंज थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत ईन्दरपुर खोरी के बहुचर्चित शासकीय जमीन घोटाले के मामले में आज पुलिस ने पहली गिरफतारी की है। पुलिस ने रामानुजगंज के कांग्रेस विधायक बृहस्पति सिंह के प्रतिनिधी व्यास मुनि यादव को गिरफतार किया है। गौरतलब है की ग्राम इन्दरपुर खोरी में 2015 में शिकायत प्राप्त हुआ था जिसमें 270 एकड़ शासकीय जमीन का फर्जी पट्टा बनाकर बेचने का मामला सामने आया था। इस प्रकरण में 34 लोगों के खिलाफ अपराध दर्ज किया गया था। जांच में पता चला की आरोपियों ने रायपुर की एक कंपनी को इस 270 एकड़ जमीन को एक करोड़ 18 लाख में बेच दिया था।आरोपियों ने बड़े ही होशियारी से शासकीय रिकॉर्ड में हेराफेरी करते हुए जमीन को सन 1970-71 में रायपुर के कंपनी के नाम रजिस्ट्री भी कर दिया था। शिकायत मिलने के बाद मामले में काफी हाईप्रोफाईल लोगों के जुड़े होने के कारण सरगुजा कमिसश्नर ने इस मामले की जांच शुरू की थी और इस मामले में सभी रिकार्ड गलत पाए जाने के बाद न सिर्फ रजिस्ट्री को कैंसल किया गया बल्कि प्रशासन ने उस जमीन पर अधिग्रहण भी कर लिया।2015 से चल रहे इस प्रकरण में आज पहली गिरफतारी हुई है और कांग्रेस के दिग्ग्ज नेता और विधायक प्रतिनिधी व्यास मुनि यादव को गिरफतार किया गया है।पुलिस ने बताया की उस समय आरोपियों ने जिन ग्रामीणों के नाम पर फर्जी पट्टा बनाया था वो स्थानीय नहीं थे बल्कि झारखंड के रहने वाले थे। इस मामले में उन्हें भी आरोपी बनाया गया है। 270 एकड़ के शासकीय जमीन के हेराफेरी के मामले में पहली गिरफतार के बाद अब हड़कंप मच गया है वहीं पुलिस अब बाकी आरोपियों की गिरफतारी की तैयारी में भी जुट गई है।