ऑटो चालक की सजगता से नाबालिग लड़की बची , ऑटो चालक सम्मानित

0
2

भोपाल
राजधानी भोपाल में ऑटो चालक की सजगता से एक नाबालिग लड़की बच गई है। उसके बाद ऑटो चालक को भोपाल पुलिस ने सम्मानित किया है। मंदसौर की रहने वाली लड़की की दोस्ती इंस्टाग्राम के जरिए हरियाणा के एक लड़के से हुई थी। नाबालिग उससे वीडियो कॉल पर बात करती थी। फिर युवक के झांसे में आकर युवती ने घर छोड़ दी। हरियाणा जाने के लिए भोपाल पहुंच गई। उसकी हालत देख ऑटो चालक को शक हुआ।

ऑटो चालक ने इसकी खबर तुरंत पुलिस को दी। उसके बाद लड़की हरियाणा जाने से बच गई। वहीं, इस काम के लिए भोपाल पुलिस ने ऑटो चालक को सम्मानित किया है। क्योंकि ऑटो चालक की वजह से नाबालिग लड़की बची है। अब पुलिस ने लड़की को परिजनों को सौंप दिया है।

क्या है मामला
नाबालिग लड़की मंदसौर के सीतामऊ के पास की रहने वाली है। इंस्टाग्राम पर मार्च 2020 में नाबालिग लड़की की दोस्त रेवाड़ी के रहने वाले एक युवक से हुई। दोनों फिर आपस में वीडियो कॉल के जरिए बात करने लगे। इसे लेकर माता-पिता उसे डांटने लगे। इस बात की जानकारी लड़की ने अपने दोस्त ललित को दी। ललित ने कहा कि तुम रेवाड़ी आ जाओ। यहां तुम्हारे लिए सारी व्यवस्था कर दूंगा।

घर छोड़ दी लड़की
ललित के झांसे में आकर लड़की ने 29 सितंबर को घर छोड़ दी। वह अपने गांव से निकल कर पैदल सीतामऊ पहुंची। वहां से मंदसौर और इंदौर पहुंच गई। फिर से इंदौर से बस पकड़ कर भोपाल स्थित बस स्टैंड पहुंच गई। यहां पहुंचने के बाद वह रेवाड़ी के लिए बस ढूंढ रही थी।

ऑटो ड्राइवर ने भांप लिया
लड़की की स्थिति को देख कर ऑटो ड्राइवर मनोज गायकवाड़ को लगा कि कुछ गड़बड़ है। मनोज ने तुरंत इसकी सूचना गोविंदपुरा थाने को दी। उसके बाद पुलिस ने लड़की को अपने कब्जे में लेकर पूछताछ की। फिर काउंसलिंग के उसे परिजनों को हवाले कर दिया। वहीं, मनोज गायकवाड़ की सजगता की वजह लड़की परिवार के लोगों को मिल गई है। इसलिए गोविंदपुरा थाने में ऑटो ड्राइवर को सम्मानित किया गया।