हमारे स्वास्थ्य के लिए हल्दी है चमत्कारी, जानिए कैसे करें उपयोग…

0
1003

जानिए हल्‍दी का पानी पीने का सही समय क्‍या है और इसके क्‍या लाभ

भोपाल, हल्‍दी एक ऐसी जड़ी-बूटी है जिससे स्‍वास्‍थ्‍य को कई अद्भुत लाभ मिलते हैं। खाने का स्‍वाद बढ़ाने के लिए भी भारत में हल्‍दी का इस्‍तेमाल खूब किया जाता है। हल्‍दी को भोजन या दूध में ही नहीं बल्कि गर्म पानी में भी मिलाकर पीने से स्‍वस्‍थ रहा जा सकता है। हल्‍दी एंटीऑक्‍सीडेंट की तरह काम करती है और इसमें सूजन-रोधी एवं बैक्‍टीरिया-रोधी गुण भी होते हैं।

जी हां, आज इस लेख के जरिए हम आपको बताने जा रहे हैं कि गर्म पानी में हल्‍दी मिलाकर पीने से क्‍या लाभ होता है और किस समय पीने से आपको इसके सबसे ज्‍यादा लाभ मिल सकते हैं।

गर्म पानी और हल्‍दी के फायदे

हल्‍दी में लिपोपोलीसैचिरिड होता है जो इम्‍यून सिस्‍टम को मजबूत करता है और फ्लू एवं सर्दी-जुकाम के खतरे को कम करता है।
हल्‍दी के बैक्‍टीरिया-रोधी प्रभाव से घाव को जल्‍दी भरने में मदद मिलती है। हल्‍दी का पानी सूजन को जोड़ों के ऊतकों को नुकसान पहुंचाने से रोकती है जिससे जोड़ोंमस्‍ में दर्द और आर्थराइटिस जैसी सयाओं से बचाव या राहत मिलती है।

हल्‍दी में ट्यूमर को रोकने के गुण होते हैं इसलिए हल्‍दी का पानी पीने से काफी हद तक कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है। ये कार्डियोवस्‍कुलर डिजीज और स्‍ट्रोक का कारण बनने वाले कोलेस्‍ट्रोल के लेवल को भी कम करता है। हल्‍दी के सूजन-रोधी गुण मस्तिष्‍क को अल्‍जाइमर रोग से बचाते हैं और बढ़ती उम्र में होने वाले अन्‍य मानसिक विकारों से भी रक्षा करते हैं। हल्‍दी का पानी शरीर में फैट जमने से भी रोकता है जिससे वजन कम करने में मदद मिलती है।

हल्‍दी का पानी कब पिएं
अगर आप हल्‍दी के पानी के भरपूर लाभ पाना चाहते हैं तो रोज सुबह खाली पेट इसका सेवन करें। सुबह के समय इस पानी को पीने से आपको सबसे ज्‍यादा लाभ मिलेंगे।

कैसे बनाएं हल्‍दी का पानी
एक गिलास गर्म पानी लें और उसे उबलने के लिए गैस पर रख दें।
अब इसमें एक छोटी चम्‍मच हल्‍दी पाउडर डालें और अच्‍छी तरह से मिक्‍स कर लें। स्‍वाद के लिए आप इसमें शहद भी डाल सकते हैं। इस पानी को रोज सुबह पिएं।

इन बातों का रखें ध्‍यान
कुछ स्थितियों में हल्‍दी का पानी पीने को लेकर आपको सावधानी बरतनी पड़ेगी, वरना इसकी वजह से कुछ हानिकारक प्रभाव झेलने पड़ सकते हैं।

अगर आपको पथरी या पित्त वाहिका में अवरुद्ध की परेशानी है तो हल्‍दी के पानी से यह समस्‍या और बढ़ सकती है।
हल्‍दी खून के थक्‍के बनने की प्रक्रिया को धीमा कर सकती है और इससे चोट लगने पर अधिक ब्‍लीडिंग होने का खतरा बढ़ जाता है। सर्जरी आदि करवाने पर कम से कम दो हफ्ते पहले हल्‍दी का पानी पीना बंद कर दें।
हल्‍दी में मौजूद करक्‍यूमिन ब्‍लड शुगर लेवल को बहुत कम कर सकता है इसलिए डायबिटीज के मरीज सावधानीपूर्वक इसका सेवन करें।
हल्‍दी के अधिक सेवन के कारण शरीर में आयरन का अवशोषण रुक सकता है। यदि आपको आयरन की कमी है तो हल्‍दी का सेवन कम करें। इस प्रकार हल्‍दी का पानी आपकी कई स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं को दूर कर सकता है और स्‍वस्‍थ रहने का ये बहुत आसान एवं प्रभावशाली तरीका भी है।