सेवानिवृत आरआई की कोरोना से मौत, ठेला में रखकर शव लाए परिजन

0
1

khemraj morya
शिवपुरी। जिले में कोरोना की गति दिन प्रतिदिन तीव्र होती जा रही है। जिसके कारण मौतों के आंकड़े भी बढ़ते जा रहे हैं। गुरूवार और शुक्रवार की रात एक महिला और एक पुरूष की मौत के बाद रात्रि में नरवर के वार्ड नम्बर 5 में रहने वाले सेवानिवृत आरआई गणेशीलाल आर्य की 74 वर्ष की आयु में कोरोना से दुखद मौत हो गई। लेकिन स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही के कारण गणेशीलाल को शव वाहन उपलब्ध नहीं कराया। और उनकी मौत हो जाने पर परिजन शव को ठेले में रखकर ट्रेक्टर ट्रॉली तक लाए और उसके बाद नगर पंचायत के कर्मचारियों ने उनका अंतिम संस्कार कोरोना के नियमों के तहत किया।

जानकारी के अनुसार गणेशीलाल आर्य की 14 सितम्बर को कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आई थी। इसके बाद उन्हें होम आईसोलेशन में रखा गया। लेकिन उन्हें जिला अस्पताल नहीं भेजा गया। उनके पुत्र व पुत्र वधु भी कोरोना संक्रमित होने के कारण होम आईसोलेशन में थे। लेकिन गणेशीलाल की लगातार हालत बिगड़ती जा रही थी। वहीं परिजनों का आरोप है कि डॉक्टरों ने उन्हें आश्वस्त किया था कि वह होम आईसोलेशन में रहकर ही स्वस्थ हो जाएंगे। इसलिए वह निश्चिंत हो गए थे और उन्होंने किसी दूसरे अस्पताल या किसी दूसरे शहर में जाने की नहीं सोची। लेकिन शाम के समय उनकी घर पर ही मौत हो गई। परिजनों का कहना है कि उनके शव को ले जाने के लिए उन्होंने स्वास्थ्य केन्द्र में सम्पर्क किया। इसके बाद भी उन्हें एम्बुलेंस या कोई शव वाहन नहीं दिया गया। इस कारण वह घर से ठेले में उनका शव रखकर गांव के बाहर खड़ी ट्रेक्टर ट्रॉली तक लेकर पहुंचे। जहां से उन्हें अंतिम संस्कार के लिए मुक्तिधाम पर ले जाया गया। परिजनों का कहना है कि स्वास्थ्य विभाग ने उनके घर में 3 सदस्यों के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद भी उनके एरिए में वैरीगेटिंग और जाली भी नहीं लगाई गईं, जो स्वास्थ्य विभाग की गंभीर लापरवाही है।