कांग्रेस ने जारी किया वचन पत्र, गृहमंत्री ने कहा- कपट पत्र है

0
3

फिर से 100 रुपए में 100 यूनिट बिजली मिलेगी

कोरोना में मृत व्यक्तियों के परिवार को पेंशन दी जाएगी

बचे किसानों का कर्ज होगा माफ

शिवराज बोले- बस लिखो और भूल जाओ यह है वचन पत्र

भोपाल। 2018 के चुनाव में वचन पत्र के सहारे सत्ता के करीब पहुंची कांग्रेस पार्टी एक बार फिर 28 सीटों पर वचन पत्र के सहारे जीत की उम्मीद में है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी और पूर्व मंत्री सज्जन वर्मा ने शनिवार को उपचुनाव को लेकर कांग्रेस पार्टी का वचन पत्र जारी किया। कांग्रेस पार्टी ने अपने वचन पत्र में कांग्रेस का हाथ सबके साथ स्लोगन दिया। कांग्रेस ने नए वचनों में 100 रुपए में 100 यूनिट बिजली देने, किसानों का कर्जा माफ करने, शुद्ध के लिए युद्ध अभियान चलाने, सामाजिक सुरक्षा पेंशन की राशि को बढ़ाने सहित 52 बिंदुओं को शामिल किया है। इस अवसर पर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी और पूर्व मंत्री सज्जन वर्मा की उपस्थिति में इसे जारी किया।
इस अवसर पर कमलनाथ ने इस बात का भी दावा अपने वचन पत्र में किया है कि 2018 के चुनाव में उसने 974 वचन शामिल किए थे और 15 महीने की सरकार में 574 वचनों को पूरा करने का काम किया। कांग्रेस ने जय किसान फसल ऋण माफी योजना के तहत 27 लाख किसानों का कर्जा माफ करने और बिजली उपभोक्ताओं को 100 रुपए में 100 यूनिट बिजली देने का वचन निभाने का दावा किया है। कांग्रेस पार्टी का उपचुनाव को लेकर वचन पत्र जारी करने के साथ ही कमलनाथ ने दावा किया है कि सत्ता में आने के बाद वह वचनों को पूरा करने का काम करेंगे।
शिवराज के चंगुल में नहीं फंसेगी जनता

कमलनाथ ने कहा कि पिछले वचन पत्र में 974 मुद्दे शामिल थे। 15 महीने की सरकार में इनमें से 574 वचन किए पूरे किए। जनता इसकी गवाह है। कोविड का शुरू में तो शिवराज मजाक उड़ाते थे। पिछले 7 महीने में नारियल फोडऩे, बेमतलब की बात करने में गवां दिए। इस उपचुनाव में जनता शिवराज से मुंह नहीं मोड़ेगी, बल्कि तमाचा मारेगी। हम मध्य प्रदेश के अगले 3 साल का रोडमैप बना रहे हैं। जनता ने 15 साल बाद भाजपा को घर बैठाया था। कोरोना में मृत व्यक्तियों के परिवार को पेंशन दी जाएगी। हम 2 लाख तक का किसानों का ऋण माफ करेंगे। बिना ब्याज का ऋण का मुद्दा भी शामिल है। इसमें कुल 52 मुद्दे शामिल किए गए हैं।

इनका सात महीने से चुनाव चल रहा
कमलनाथ ने कहा कि इनका (भाजपा) चुनाव प्रचार तो बीते 7 महीने से चल रहा था। हमने अभी 4 दिन से शुरू किया है। जनता आने वाले दिनों में हमारे इस वचन पत्र में विचार करके अपना फैसला ले। अकेले प्रचार में दिखाई देने पर कहा- ऐसी बात नहीं है मैं कोई सुपर स्टार नहीं हूं। बल्कि मैं कोई स्टार ही नहीं हूं। स्टार तो शिवराज सिंह चौहान हैं, जिन्हें मुंबई जाना चाहिए। वो तो एक्टिंग में शाहरुख खान को भी डुबो देंगे।

काग्रेस केवल जनता को धोखा दे रही है: शिवराज
इसको लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तंज कसा है। उन्होंने कहा कि पुराने वचन पत्र के न तो वचन निभाए और न ही वादे पूरे किए। लिखा और भूल गए। लिखा और कहा भी था कि 10 दिन में पूरा कर देंगे। वो पूरे हुए नहीं। नए करने कहा गया। वादे हैं, वादों का क्या? और दूसरा वो जानते हैं कि करना तो कुछ है नहीं। केवल लिखना है। जनता इनके वादे और वचन इनकी असलियत सब जानती हैं। दरअसल मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शनिवार को बडामलेहरा विधान सभा के बकस्वाहा में सभा को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस के पुराने वचन पत्र पर पूरा नहीं होने का आरोप लगाया। साथ ही कहा कि काग्रेस का वचन पत्र नहीं कपटपत्र है ये पार्टी केवल जनता को धोखा दे रही है। ये हमारे काम को गिना नहीं पाएंगे।
शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि पुराने वचन पत्र के ना तो वचन निभाए, ना वादे पूरे किए और भूल गए। कांग्रेस नेताओं ने लिखा भी और कहा भी यह था कि 10 दिन में कई वादे पूरे कर देंगे। वो पूरे नहीं हुए और अब नए वादे लेकर आ गए हैं। वादे हैं वादों का क्या। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने यह भी कहा कि वो(कांग्रेस नेता) जानते हैं कि करना तो कुछ है नहीं बस लिखना ही है। जनता इनके वादे और वचन सबकी असलियत और सच्चाई जानती है।

शिवराज से डर गए हैं कमलनाथ: वीडी शर्मा
वहीं, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने कांग्रेस के वचन पत्र पर हमला बोला है। वीडी शर्मा ने कहा- कांग्रेस ने एक और वचन पत्र जारी किया है, पहले जो वचन पत्र था 15 महीनों के कार्यकाल में पूरा नहीं किया इसलिए अब नया वचन पत्र लाना पड़ा है। शर्मा ने कहा कि उन्होंने कोई घोषणा नहीं कि बल्कि वो हमें कोसते रहे। केवल पांच बार तो उन्होंने शिवराज का नाम लिया। शिवराज सिंह चौहान के नाम से कमलनाथ को भय हो गया है इसलिए जब भी मौका मिलता वो शिवराज जी को कोसने लगते हैं। मध्यप्रदेश की जनता ने देखा है कि 15 महीनों में आपने क्या किया है। कर्जमाफी के नाम पर झूठ बोल कर आप एक बार फिर से अपराध कर रहे हैं। वीडी शर्मा ने कहा कि इस चुनाव के बाद कमलनाथ का बोरिया बिस्तर बंध जाएगा।

गलती से सीएम बन गए कमलनाथ
वीडी शर्मा ने कहा 2018 में हमारा वोट शेयर ज्यादा था लेकिन चार से पांच सीटें कम रह गई और देश का दूसरे नंबर का उद्योगपति भूल से मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री बन गया। कमलनाथ को कमल सेठ कहते हुए वीडी शर्मा ने कहा- लोकतंत्र प्यार से चलता है। कांग्रेस पर लड़ाई इस बात की है कि नकुलनाथ नेतृत्व करेंगे या फिर जयवर्धन सिंह करेंगे। वचन पत्र में कोरोना है, लेकिन जनवरी में कोरोना पर एडवाइजरी थी, तब्लीगी जमात इंदौर में इकठ्ठा हो रहे थे और कमलनाथ आइफा की तैयारी कर रहे थे।

गृहमंत्री ने कहा- कपट पत्र है
वहीं, मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा- कमलनाथ का वचन नहीं कपट पत्र है। जनता सब जानती है।

ये हैं वचन पत्र के प्रमुख बिंदु
– बचे हुए किसानों की कर्ज माफी
– किसानों का बिजली बिल हाफ और घरेलू उपभोक्ताओं को 100 रुपए में 100 यूनिट बिजली
– केंद्र के किसान विरोधी कानून को प्रदेश में लागू नहीं किया जाएगा।
– समर्थन मूल्य पर खरीदी जाएगी फसल
– गौ धन सेवा योजना शुरु होगी
– शुद्ध के लिए युद्ध अभियान शुरु होगा
– सामाजिक सुरक्षा पेंशन की राशि 800 से 1000 तक बढ़ाएंगे।
– कोरोना से मुखिया की मौत पर पीडि़ता को पेंशन देंगे। एक सदस्य को रोजगार से जोड़ेंगे।
– कन्या विवाह की राशि फिर से 51 हजार रुपए की जाएगी।
– लक्ष्मीबाई,दुर्गावती,अवंती बाई और अहिल्या बाई के नाम पर एक-एक लाख के पुरस्कार दिए जाएंगे।
– बेरोजगार युवाओं के लिए प्रतियोगी परीक्षा की फीस सरकार भरेगी।
– निजी सुरक्षा गार्ड को बंदूक का लायसेंस दिया जाएगा।
– ग्वालियर-चंबल के हर जिले में पुलिस स्कूल खोला जाएगा।
– कोरोना से प्रभावित छोटे व्यापारियों को 50 हजार रुपए का कर्ज बिना ब्याज के दिया जाएगा।
– जल का अधिकार और आवास का अधिकार कानून बनाएंगे।
– माफिया मुक्त प्रदेश अभियान चलाया जाएगा।
– वृहद चंबल महोत्सव का आयोजन हर साल होगा।
– सरकारी कर्मचारियों को डीए और वेतनवृद्धि तत्काल देंगे।
– अतिथि विद्वानों,अतिथि शिक्षकों समेत सभी कर्मचारियों की मांगों का निराकरण।
– फॉरेस्ट गार्ड का पदनाम फॉरेस्ट विलेज ऑफिसर होगा।