लेकिन फिलहाल पे-कट और ले-ऑफ जैसी बात नहीं,  हम कॉस्ट कटिंग कर चुके हैं: बीसीसीआई

0
25

 नई दिल्ली 
कोविड-19 महामारी (कोरोना वायरस संक्रमण) के चलते दुनिया के बाकी स्पोर्टिंग बोर्ड्स की तरह भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को भी भारी नुकसान झेलना पड़ा है। क्रिकेट इवेंट्स स्थगित या रद्द होने से बीसीसीआई को भी नुकसान उठाना पड़ा है। बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली के मुताबिक अगर इस साल इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) को रद्द करना पड़ता है तो बोर्ड को 4000 करोड़ रुपये तक का नुकसान उठाना पड़ सकता है। बीसीसीआई को हालांकि अभी भी उम्मीद है कि साल के अंत में आईपीएल का आयोजन कराया जा सकेगा।
 
तो क्या बीसीसीआई ने अभी तक पे-कट का फैसला लिया है? इसका जवाब देते हुए बीसीसीआई के कोषाध्यक्ष अरुण धूमल ने कहा कि बोर्ड कॉस्ट कटिंग कर रहा है, लेकिन अभी तक कोई पे-कट या ले-ऑफ नहीं किया गया है। धूमल ने न्यू इंडियन एक्सप्रेस से कहा, 'अक्टूबर में पिछले साल जब कुछ अधिकारियों ने चार्ज लिया, उसके बाद बीसीसीआई ने कुछ कॉस्ट कंट्रोल किया है। अभी तक कोई पे-कट या ले-ऑफ जैसी बात नहीं है। हमने ट्रैवल, हॉस्पिटैलिटी और अन्य चीजों में कॉस्ट कटिंग की है।'
 

उन्होंने कहा, 'आईपीएल अगर नहीं होता है तो बोर्ड पर इसका बड़ा असर पड़ेगा और तब हम कोई भी नया फैसला लेने से पहले परिस्थितियों का जायजा लेंगे।' मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बीसीसीआई की नजर आईपीएल कराने के लिए सितंबर-अक्टूबर और अक्टूबर-नवंबर के विंडो पर है। धूमल पहले भी कह चुके हैं कि टी20 वर्ल्ड कप को स्थगित करने के लिए बीसीसीआई नहीं कहेगा।