मानव तस्करी मामले में महिला समेत चार गिरफ्तार

0
2

बलौदाबाजार
प्रेसजाल में फंसाकर युवक युवती को महाराष्ट्र ले गया जहां तीन लोगों ने उसके साथ गैंगरेप किया, बाद में युवती को गुजरात के सूरत ले जाकर डेढ़ लाख रुपए में बेच दिया। भाटापारा थाने में गुमशुदगी का मामला दर्ज होने के बाद पुलिस ने खोजबीन शुरू की और गुजरात के वड़ोदरा से पुलिस ने युवती को खोज निकाला। पुलिस ने इस मामले में एक महिला समेत 4 आरोपियों को गिफ्तार कर लिया है वहीं 6 अन्य की तलाश की जा रही है।

परिजन ने भाटापारा थाने में युवती की गुमशुदगी का मामला दर्ज करवाते हुए बताया कि उनकी लड़की गुजरात में है और फोन के जरिए बात हो रही है। इस पर पुलिस की एक टीम गुजरात के वड़ोदरा भेजी गई, वहां से लड़की को बरामद कर लिया। उससे पूछताछ के आधार पर मध्यप्रदेश के बालाघाट निवासी एक अन्य लड़की को भी पोरबंदर से रेस्क्यू कराया गया। युवती ने पुलिस को बताया कि करीब एक साल पहले राम सागर पारा, भाटापारा निवासी दीपक उर्फ गोलू यदू से उसका प्रेम संबंध था। दीपक के घर वाले शादी के लिए तैयार नहीं थे, तो युवती उसके साथ बिलासपुर चली गई। वहां आमगांव, गोंदिया, महाराष्ट्र निवासी पिंटा मराठी उर्फ बंटी व एक अन्य युवक मिले। उन्होंने एक लड़की के साथ मिलकर खाने में नशीला पदार्थ खिला दिया। बेहोश होने पर आरोपी उसे अपने साथ आमगांव ले गए। वहां अशोक पाटले के किराये के मकान में रखकर उसके हाथ-पैर बांध दिए। इसके बाद बंटी, उसका भाई और दोस्त युवती से दुष्कर्म करते रहे। वहीं पर आरोपियों ने बालाघाट की युवती को भी बंधक बना रखा था। तीन दिन बाद अशोक पाटले व चंद्रपुर निवासी बसंती लिलहरे, नागपुर निवासी पप्पु उर्फ उमेश चुरे, रमेश टाकलिकर दोनों लड़कियों को नागपुर ले गए।

नागपुर में जब युवतियों का सौदा नहीं हो पाया तो गुजरात के सूरत में आरोपी संजू के पास ले गए। वहां आरोपियों ने युवतियों के फर्जी आधार कार्ड बनवाए और फिर भाटापारा की युवती को डेढ़ लाख रुपए में विजय गुजराती को बेच दिया। इसका पता चलते ही युवती वहां से भागकर वड़ोदरा आ गई और अभिषेक शाह से शादी कर रहने लगी। वहीं आरोपियों ने बालाघाट की युवती को पोरबंदर में बेच दिया।

पुलिस ने 10 आरोपियों पर एफआईआर दर्ज की है। इनमें से चंद्रपुर महाराष्ट्र निवासी बसंती पति छोटेलाल लिलहरे, आमगांव, गोंदिया महाराष्ट्र निवासी अशोक पाटले, हुडकेश्वर, नागपुर निवासी उमेश चुरे उर्फ पप्पू और शांति नगर, नागपुर निवासी रमेश टाकलिकर गिरफ्तार हुए हैं। जबकि दीपक उर्फ गोलू यदू, पिंटा उर्फ बंटी, पिंटा का भाई और उसका दोस्त और संजू गुजराती उर्फ राजू फरार हैं।