पटना में बेलगाम हुआ सब्जी बाजार, मनमानी कीमत पर बिक रहीं हरी सब्जियां और फल

0
2

पटना                                                                                                                                                                                                              
कोरोना वायरस से शहर को बचाने के लिए जिला प्रशासन और पुलिस की सख्ती ने फल और सब्जी विक्रेताओं के लिए ब्लैक मार्र्केंटग का रास्ता आसान कर दिया है। जिस फल और सब्जी को दुकानदार शहर के थोक मंडियों से औने-पौने दामों में खरीद रहे हैं, उसकी कीमत खुदरा बाजार और मोहल्लों-चौराहों पर दोगुना से भी अधिक कर दिए हैं। हालांकि जिला प्रशासन और प्रमंडल आयुक्त के द्वारा शहर बंद होने की स्थिति में कालाबाजारी को रोकने के लिए सख्त कदम उठाए जा रहे हैं।  लेकिन फिर भी ठेला, झोपड़ी, गुमटियों में बेचे जाने वाले फल और सब्जी के दाम को मनमाने तरीके से वसूल किया जा रहा है। 
एक ओर जहां जनता कोरोना वायरस के महामारी से परेशान है, वहीं आवश्यक खाद्य वस्तुओं के दाम बढ़ जाने से परेशानी के और बढ़ जाने की समस्या है। सबसे आवश्यक सब्जी और फलों की बढ़ रही कीमत से लोग परेशान हैं।

वाहनों के बंद होने के बाद बढ़ने लगी परेशानी
कोरोना वायरस से बचाव के लिए जिला प्रशासन ने निजी वाहनों के परिचालन को बंद करवा दिया है। ग्रामीण इलाकों और थोक मंडियों से हरी सब्जियां लाने के लिए कारोबारियों के पास वाहन की सुविधा उपलब्ध नहीं हो पा रही है। अगर कोई वाहन थोक मंडियों से सब्जी उठाकर खुदरा बाजार और मोहल्लों में स्थित दुकानों तक पहुंचाने के लिए राजी भी हो जा रहा है तो वह सब्जी एवं फल पहुंचाने का किराया दोगुना वसूल कर रहा है। इससे परेशानि बढ़ गई है।

विकट हो सकती है समस्या
अंटाघाट, मीठापुर थोक सब्जी विक्रेता संघ के लोग और बाजार समिति में फल विक्रेता संघ के कारोबारियों का मानना है कि अगर हरी सब्जी और के वाहनों के लिए जिला प्रशासन के द्वारा छूट नहीं दिया गया तो भविष्य में समस्या और बढ़ जाएगी। फल-सब्जी लाने वाले वाहनों के आवागमन पर रोक लगने का नाजायज फायदा खुदरा कारोबारी और ठेला, झोपड़ियों आदि में दुकान लगाने वाले उठा सकते हैं। 

फल व हरी सब्जियों के दाम बढ़ाकर लेना गलत है।  इस महामारी में कारोबारी जनता से लूट ना करें। सभी को सेवाभाव से पेश आना चाहिए। लोग भी हड़बड़ी ना दिखाएं।
– शशिकांत प्रसाद उर्फ पप्पू, फल व्यवसाई बाजार समिति

छोटे दुकानदार मनमाना रेट वसूल कर रहे हैं। वाहन नहीं चलने का नाजायज फायदा उठाया जा रहा है। प्रशासन को चाहिए कि वह थोक सब्जी मंडी की जानकारी लेकर इसकी जांच करवाए। 
-प्रदीप कुमार, थोक सब्जी विक्रेता मीठापुर