नोट और मोबाइल के स्‍क्रीन पर 28 द‍िनों तक रहता है कोरोना वायरस

0
2

मेलबर्न
ऑ‍स्‍ट्रेलिया के शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि 20 डिग्री सेल्सियस तापमान पर कोरोना वायरस बैंक नोट, ग्‍लास और स्‍टील पर 28 दिनों तक जिंदा रहता है। शोधकर्ताओं ने कहा कि कोरोना का वायरस फ्लू के वायरस से भी ज्‍यादा समय तक जिंदा रहता है। उन्‍होंने लोगों को सलाह दी कि कोरोना वायरस से बचने के लिए हाथों को धोना और घरों की सफाई बेहद जरूरी है।

विरालॉजी जर्नल में प्रकाशित इस ताजा शोध में ऑस्‍ट्रेलिया के नैशनल साइंड एजेंसी CSIRO के शोधकर्ताओं ने कहा कि 20 डिग्री सेल्सियस तापमान पर SARS-COV-2 वायरस 28 दिनों तक प्‍लास्टिक बैंक नोट और मोबाइल फोन के स्‍क्रीन पर 28 दिनों तक संक्रामक बना रहता है। इसकी तुलना में Influenza A वायरस सतह पर 17 दिनों तक जिंदा रहता है।

तापमान बढ़ने पर कोरोना वायरस के जिंदा रहने की संभावना कम
यह शोध 20, 30 और 40 डिग्री सेल्सियस पर किया गया। इसमें यह भी पाया गया कि जैसे-जैसे तापमान बढ़ता है, कोरोना वायरस के जिंदा रहने की संभावना कम हो जाती है। CSIRO के सीईओ लैरी मार्शल ने एक बयान में कहा, 'कोरोना वायरस कितनी देर तक सतह पर जिंदा रहता है, इसका पता चलने से अब उसके जिंदा रहने का सटीक अनुमान लगाने, उसके प्रसार को रोकने और नागरिकों की रक्षा करने में हमारी मदद करेगा'

शोधकर्ताओं ने बताया कि शरीर के अंदर प्रोटीन और फैट वायरस के जिंदा रहने की क्षमता को बढ़ाता है। ऑस्‍ट्रेलिया के सेंटर फॉर डिजीज के वैज्ञानिक ट्रेवोर ड्रीव ने कहा, 'यह शोध कोरोना वायरस के लगातार ठंडे माहौल में जिंदा रहने और प्रसार के कारण को समझने में मदद करेगा। साथ ही यह हमें अच्‍छे तरीके से कैसे कोरोना वायरस से निपटें, इसे समझने में मदद करेगा।'

ऑस्‍ट्रेलिया में मात्र 27 हजार केस आए, 898 लोगों की मौत
बता दें कि ऑस्‍ट्रेलिया ने अन्‍य समृद्धि देशों की तुलना में कोरोना वायरस से बहुत अच्‍छे से निपटा है। देश की ढाई करोड़ की आबादी में मात्र 27 हजार केस आए हैं और 898 लोगों की मौत हुई है। ऑस्‍ट्रेलिया में सबसे ज्‍यादा कोरोना के मामले विक्‍टोरिया राज्‍य से आए हैं। सोमवार को ही वहां पर 15 नए मामले सामने आए। कई अन्‍य राज्‍यों में भी कोरोना के मामले सामने आए हैं।