जंगल में फंसी महिला का CRPF ने कराया प्रसव, घर में गूंजी किलकारी

0
2

दंतेवाड़ा
छ्त्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में लैंडस्लाइड के कारण पहाड़ ढहने से सड़क बंद हो गई थी. ऐसे में एक गर्भवती महिला जंगलों में फंस गई थी. सड़क बंद होने के कारण वो अस्पताल तक नहीं जा सकती थी. इस बीच सीआरपीएफ के जवानों ने मिसाल पेश की. इमेरजेंसी में सीआरपीएफ कैम्प में ही जवानों ने महिला की प्रसुति करवाई. दंतेवाड़ा के कोंडासावली इलाके में भारी बारिश के चलते पहाड़ का एक हिस्सा धसक गया और इसका पूरा मलबा और कई पेड़ पहाड़ पर बनी सड़क पर आ गिर था.

लैंडस्लाइड की वजह से शनिवार की शाम से घोर नक्सलप्रभावित इलाके कोंडासवली से दंतेवाड़ा आनेवाली एकमात्र सड़क पूरी तरह से बंद हो चुकी है. इलाका नक्सलप्रभावित होने की वजह से यह इलाका सीआरपीएफ़ की जद में है. जहां सीआरपीएफ के जवान  सड़क से मलबा हटाने में लगे हुए है. नक्सलियों के इस गढ़ में सीआरपीएफ के जवान नक्सल हमले के बीच जान दाव पर लगाकर मलबा हटाने का काम तो कर ही रहे हैं, लेकिन इसीबीच सीआरपीएफ के जवानो इंसानियत के लिए एक बड़ी मिसाल भी पेश की है.

लैंडस्लाइड होने की वजह से कोंडासवली गाँव से दंतेवाड़ा जानेवाली सड़क पूरी तरह बंद हो गई थी. इसी बीच इमेरजेंसी में प्रसुति के लिए दंतेवाड़ा जा रही एक आदिवासी महिला भी इस लैंडस्लाइड में फस गई और इसीबीच उसे प्रसुति का दर्द भी उठा, जिसे देखते हुए सीआरपीएफ के जवान उसे स्ट्रेचर पर डालकर तुरंत सीआरपीएफ के 231 बटालियन के कोंडासावली कैम्प ले गए और यहां जवानों ने परिवारजनों की मदद से महिला की प्रसुति भी करवाई. डिलीवरी के बाद मां और बच्चा दोनों को ही सीआरपीएफ के कैम्प में रखा गया और सारी चीजें नार्मल होने के बाद जवान मां और बच्चे को नक्सलियों के गढ़ दोरापारा में उनके घर तक सकुशल छोड़ भी आये.