कोरोना काल में ड्यूटी करते दपूमरे सुरक्षा बल के तीन जवान शहीद, 146 प्रभावित

0
1

रायपुर। कोरोना संक्रमण काल में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के सुरक्षा बल ने अपने दायित्वों का पूर्ण निर्वहन करते हुए यात्रियों को उनककी सकुशल यात्रा कराने में अहम भूमिका निभाई। इस दौरान सुरक्षा बल के 146 लोग कोरोना संक्रमित हुए जिनमें अफसर व कर्मचारी दोनों ही शामिल है वहीं तीन जवान शहीद भी हुए। शहीद हुए जवनों में रेलवे सुरक्षा बल अनूपपुर में पदस्थ प्रधान आरक्षक एन.आर.पोर्ते, रेलवे सुरक्षा बल शहडोल में पदस्थ सहायक उपनीरिक्षक के.डी.प्रसाद तथा बिलासपुर में रेलवे सुरक्षा बल के गुप्तचर शाखा में पदस्थ निरीक्षक पी.एल.विश्वकर्मा शामिल है। कोरोना प्रभावितों में से 119 अधिकारी व जवान ठीक होकर अपने कार्य पर लौट आये वहीं 24 इससे प्रभावित अधिकारी व जवानों का अभी भी ईलाज चल रहा है।
कोरोना महामारी में अभी तक 353 श्रमिक गाडियों को द.पू.मध्य रेलवे से समय पर व सुरक्षित पास करवाया गया। श्रमिक स्पेशल गाडियों में रेल प्रशासन के द्वारा खाना व पानी के वितरण में पूर्ण सहयोग किया गया। रेलवे ट्रैक व रेल लाईन के किनारे चलने वाले 307 प्रवासी मजदूरों को उनकी बेहतरी के लिए शीघ्र गन्तव्य तक पहुंचाने के लिए जिला प्रशासन को सुपुर्द किया गया । इसी प्रकार मालगाडी के वैगन में यात्रा कर रहे 25 व्यक्तियों को उनके गन्तव्य तक सही सलामत पहुंचाने के लिए सुपुर्द किया गया।
सामाजिक रूप से पिछड़े 78230 लोगों को रेलवे सुरक्षा बल द्वारा एनजीओ व अन्य रेलवे विभाग के साथ मिलकर भोजन उपलब्ध करवाया गया। यात्री गाडियों के साथ साथ फूडग्रेन व पार्सल गाडियों के सुरक्षित पास कराने हेतु इन गाडियों में रेलवे सुरक्षा बल अनुरक्षण दल की तैनाती की गयी। इसी दौरान 45 बच्चों को गाडी एवं प्लेटफार्म में लावारिस रूप से घूमते पाकर उनके परिजन/एनजीओ को सुपुर्द किया गया। कोरोना काल में यात्रा के दौरान गाडियों तथा प्लेटफार्म पर यात्रियों द्वारा भूलवश छूटे 56 यात्री सामानों मोबाईल, बैग ईत्यादि को सही सलामत यात्रियों को सुपुर्द किया गया। कोरोना महामारी में यात्रियों को टिकट आसानी से मिल सके इसके लिए टिकट दलालों पर विशेषकर ई-टिकट दलालों के खिलाफ लगातार अभियान चलाया गया जिसके दौरान 49 टिकट दलालों को गिरफ्तार किया गया ।