कुरूद में नवीन शासकीय कृषि महाविद्यालय का शुभारंभ

0
4

रायपुर
कृषि मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल ने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के अंतर्गत 18वें शासकीय कृषि महाविद्यालय, कुरूद (चर्रा) जिला-धमतरी का कल शुभारंभ किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री अजय चन्द्राकर ने की। कुरूद के खेल मेला मैदान में आयोजित शुभारंभ समारोह में मुख्य अतिथि की आसंदी से श्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि राज्य के अन्य जिलों में भी 6 नवीन शासकीय कृषि महाविद्यालय प्रारंभ किए गए हैं। आज तक किसी भी एक वर्ष में इतने अधिक कृषि महाविद्यालय प्रारंभ नहीं किए गए हैं। श्री अग्रवाल ने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य बनने के समय यहां 3 कृषि महाविद्यालय संचालित थे जिनमें तीन सौ विद्यार्थी अध्ययनरत थे। आज प्रदेश में 38 कृषि महाविद्यालय हो गए हैं। इनमें लगभग तीन हजार विद्यार्थी पढ़ाई कर रहे हैं। विद्यार्थी आज-कल कृषि शिक्षा को प्राथमिकता दे रहे हैं। श्री अग्रवाल ने कहा कि इसके लिए इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एस.के. पाटील और विश्वविद्यालय प्रशासन ने काफी मेहनत की है। मैं उन्हें बधाई देता हूँ। इस अवसर पर जिला पंचायत, धमतरी के अध्यक्ष श्री रघुनंदन साहू एवं नगर पंचायत, कुरूद के अध्यक्ष श्री रविकांत चन्द्राकर विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे। अतिथियों ने इस अवसर पर कृषि विज्ञान केन्द्र, धमतरी के 50 लाख रूपये की लागत से नवनिर्मित भवन का लोकार्पण भी किया।

समारोह की अध्यक्षता करते हुए श्री अजय चन्द्राकर ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य रखा है। इसके लिए प्रशासन स्तर पर नई-नई योजनाएं शुरू की गई है। उन्होंने कहा कि श्री अग्रवाल के कृषि मंत्री रहते छत्तीसगढ़ को निरंतर कृषि कर्मण पुरस्कार प्राप्त हुए हैं। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के साथ ही साथ हर परिवार को आवास उपलब्ध कराने का लक्ष्य भी रखा है जिसके लिए हम निरंतर प्रयासरत हैं। श्री चन्द्राकर ने कहा कि चर्रा में कृषि महाविद्यालय खुलने से किसानों को फायदा होगा एवं बच्चों को कृषि शिक्षा प्राप्त करने का अवसर मिलेगा।

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एस.के. पाटील ने कहा कि कुरूद का यह कृषि महाविद्यालय प्रदेश का 18वां शासकीय कृषि महाविद्यालय होगा। उन्होंने कहा कि शिक्षा किसी भी समाज के विकास के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती है। कुरूद में कृषि शिक्षा को बढ़ावा देने यहां कृषि महाविद्यालय प्रारंभ करने के लिए मंत्री श्री अजय चन्द्राकर एवं मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल धन्यवाद के पात्र हैं। उन्होंने कहा कि मंत्री श्री अजय चन्द्राकर के प्रयासों से ही यह महाविद्यालय प्रारंभ हो पाया है। महाविद्यालय के लिए 75 एकड़ जमीन भी ग्राम चर्रा में श्री चन्द्राकर के प्रयासों से उपलब्ध हुई है। उन्होंने कहा कि हम विश्वास दिलाते हैं कि आगामी 4 वर्षाें में इस महाविद्यालय को राष्ट्रीय स्तर के महाविद्यालयों में शामिल करने का प्रयास करेंगे। इस अवसर पर डॉ. पाटील ने बताया कि हमें संयुक्त राष्ट्र अमेरिका के कृषि विभाग से एक पत्र प्राप्त हुआ है, जिसमें नगरी में दूबराज चावल पर एक अंतर्राष्ट्रीय परियोजना स्वीकृत की गई है। इस परियोजना का क्रियान्वयन भी कृषि महाविद्यालय कुरूद के माध्यम से किया जाएगा।

इस अवसर पर इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलसचिव श्री जी.के. निर्माम, संचालक अनुसंधान, डॉ. आर.के. बाजपेयी, निदेशक विस्तार, डॉ. ए.एल. राठौर, कृषि महाविद्यालय, कुरूद के प्रभारी अधिष्ठाता एवं कृषि विज्ञान केन्द्र, धमतरी के कार्यक्रम समन्वयक डॉ. एस.एस. चन्द्रवंशी एवं कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक उपस्थित थे।