किसानों के लिए खुशखबरी, फलों और सब्जियों से ट्रेनों को जोड़ने की तैयारी कर रहा रेलवे

0
1

नई दिल्ली
रेलवे किसान ट्रेनों को मौसमी फलों और सब्जियों से जोड़ने पर विचार कर रहा है ताकि छोटे किसानों को लाभ हो सके। यह जानकारी रेल मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों ने रविवार को दी। यह तब किया जा रहा है जब एक देश में एक बाजार के वादे के साथ लाए गए कृषि कानून के लेकर राजनीतिक बंवडर उठा हुआ है। अधिकारियों ने बताया कि इस तरह की पहली किसान ट्रेन आगामी दिसंबर और जनवरी में नागपुर से दिल्ली के लिए संतरा किसान विशेष ट्रेन और पंजाब से पश्चिम बंगाल एवं ओडिशा के लिए कीनू विशेष ट्रेन हो सकती है। उल्लेखनीय है कि पिछले महीने किसान रेल सेवा की शुरुआत की गई थी और अब तक किसानों का 4,100 टन उत्पाद देश के एक हिस्से से दूसरे हिस्से पहुंचाया गया है। अधिकारियों ने बताया कि अभी अंतिम रूपरेखा तय किया जाना बाकी है लेकिन साथ ही कहा कि उसे मौसमी उत्पादों के लिए समर्पित विशेष ट्रेन चलाने की व्यवहारिकता को लेकर जोनल रेलवे से प्रतिपुष्टि (फीडबैक) प्राप्त हुई है। वरिष्ठ अधिकारी ने 'पीटीआई-भाषा' को बताया, ''संतरा और कीनू विशेष रेलगाड़ी संभवत: पहली रेलगाड़ी होगी जिसका परिचालन किया जाएगा।''

उन्होंने कहा, ''हम सुनिश्चित करना चाहते हैं कि ये रेलगाड़ियां छोटे किसानों के लिए फायदेमंद हो जो पूरी रेलगाड़ी की बुकिंग नहीं कर सकते हैं।'' अधिकारी ने बताया, ''वे इस सेवा में अपनी जरूरत के हिसाब से स्थान की बुकिंग कर सकते हैं।'' आंकड़ों के मुताबिक किसान रेल से सबसे कम मात्रा में माल भेजने का रिकॉर्ड तीन किलोग्राम अनार का है जो महाराष्ट्र के नासिक से बिहार के मुजफ्फरपुर भेजा गया। इसी प्रकार 14 अगस्त को मनमाड से खंडवा 17 दर्जन अंडे भेजे गए। उल्लेखनीय है कि कुछ राज्यों में किसान संसद से हाल में पारित कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सुविधा) विधेयक-2020 और कृषक (सशक्तीकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 तथा आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक का विरोध कर रहे हैं। किसानों का आरोप है कि एक बार इन विधेयकों के लागू होने के बाद 'न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) प्रणाली को खत्म करने का रास्ता साफ हो जाएगा और वे बड़ी कंपनियों की दया पर निर्भर हो जाएंगे। रेलवे अधिकारियों ने बताया कि तीन किसान रेल- देवनहल्ली (कर्नाटक) से दानापुर(बिहार), अनंतपुर से दिल्ली, और यशवंतपुर से हजरत निजामुद्दीन- के बीच परिचालन में है और क्षमता के मुकाबले 85 प्रतिशत माल के साथ चल रही हैं। अधिकारियों ने बताया कि संतरा विशेष और कीनू विशेष रेलगाड़ी के अलावा, आम विशेष रेलगाड़ी (आंध्र प्रदेश से दिल्ली के बीच, अप्रैल-जून में), प्याज विशेष रेलगाड़ी (नासिक से दिल्ली के बीच, मार्च-दिसंबर में),केला विशेष रेलगाड़ी (जलगांव से दिल्ली के बीच, मार्च-दिसंबर में), चीकू विशेष रेलगाड़ी (सूरत, वलसाड,नवसरी दिल्ली के बीच, अप्रैल-नवंबर में) चलाने पर भी विचार किया जा रहा है। अधिकारियों ने बताया कि दूरी के साथ सामान भेजने का खर्च कम होता जाएगा।