कांग्रेस ने सिंधिया के नाम पर मांगे वोट, किसी और को बना दिया सीएमः शिवराजसिंह चौहान

0
2

भोपाल
प्रदेश में 15 महीने तक कांग्रेस की जो सरकार रही, उसने शुरुआत से ही जनता को धोखा दिया। सबसे बड़ा धोखा तो यह है कि कांग्रेस ने सिंधिया जी के नाम पर और उनका चेहरा दिखाकर जनता से वोट मांगे, लेकिन जब मुख्यमंत्री बनने की बारी आई, तो कमलनाथ को मुख्यमंत्री बना दिया। बहनो और भाइयो, क्या कांग्रेस का यह धोखा जनता की पीठ में छुरा भौंकने जैसा नहीं है? यह बात प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने रविवार को भांडेर और गोहद में करोड़ों रुपये के विकास कार्यों के लोकार्पण एवं भूमिपूजन के अवसर पर कही। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में वरिष्ठ नेता एवं सांसद श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, प्रदेश सरकार के मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, श्रीमती इमरती देवी एवं पूर्व विधायक श्रीमती रक्षा सेवनिया ने भी संबोधित किया।

कार्यक्रम में प्रदेश शासन के मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, श्री अरविन्द भदौरिया, श्री विनोद गोटिया, श्री अशोक अर्गल, श्री नाथूसिंह गुर्जर, श्री लालसिंह आर्य, श्री राम जाटव, श्री रसाल सिंह, श्री राजेश सिंह सोलंकी, श्री राकेश सोलंकी उपस्थित थे।
जब सरकार गई, तब किसान-खेत याद आ रहे हैं

श्री चौहान ने कहा कि कमलनाथ सरकार के 15 महीनों में प्रदेश के किसानों पर कई आपदाएं आई। हम उनसे कहते थे, जरा खेतों में जाकर तो देखो, क्या नुकसान हुआ है। लेकिन कमलनाथ कभी वल्लभभवन से बाहर नहीं निकले। कहते थे हम यहीं बैठकर सब कर लेते हैं। कमलनाथ ने न कभी गांव की कीचड़ वाली गलियां देखीं, न कभी खेतों की पगडंडियों पर कदम रखा। लेकिन अभी अखबार में पढ़ा कि कमलनाथ जी किसी गांव में गए हैं। अब जब सरकार चली गई है, तो उन्हें गांव, किसान और खेत याद आ रहे हैं। मुख्यमंत्री रहते कमलनाथ के पास जनप्रतिनिधियों के लिए समय नहीं होता था। बस ठेकेदारों से मिलते थे और बोरा भर-भरकर नोट ले जाते थे। कमलनाथ और दिग्विजय सिंह ने पूरे प्रदेश को लूट लिया।

ये गद्दारी है कि नहीं?
श्री चौहान ने कहा कि दूसरो को गद्दार कहने वाले कांग्रेस के नेताओं ने जनहित की संबल जैसी सारी योजनाएं बंद कर दीं, क्या ये प्रदेश की जनता से गद्दारी नहीं है? बच्चों की फीस भरना बंद कर दिया, उनका लेपटॉप छीन लिया, क्या ये गद्दारी नहीं है? बेटियों की साइकिल छीन ली, बहनों से लड्डू छीन लिये क्या ये गद्दारी नहीं है? इन्होंने बुजुर्गों से तीर्थ यात्रा का सपना छीन लिया और गरीबों से सम्मानपूर्वक अंतिम संस्कार का हक भी छीन लिया, क्या ये गद्दारी नहीं है? श्री चौहान ने कहा कि कांग्रेस ने जनता के हित वाली जिन-जिन योजनाओं को बंद किया था, हम उन्हें फिर से चालू कर रहे हैं। श्री चौहान ने कहा कि सिंधिया जी ने किसी स्वार्थ के लिए कमलनाथ सरकार को नहीं गिराया, बल्कि इसलिए गिराया क्योंकि वो सरकार प्रदेश को बर्बाद कर देती।

विकास में कमी नहीं आएगी, पर सरकार की स्थिरता जरूरी है
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी सत्ता के लिए नहीं, जनता के लिए राजनीति करती है। कांग्रेस ने सस्ते अनाज वाली जिस योजना को ठंडे बस्ते में डाल दिया था, हम 16 तारीख से उसे फिर चालू कर रहे हैं। कांग्रेस ने नौजवानों को धोखा दिया, लेकिन हम उन्हें रोजगार से जोड़ेंगे और सरकारी भर्तियों पर रोक हटा रहे हैं, जल्द ही पुलिस की भर्तियां भी शुरू होंगी। श्री चौहान ने कहा कि चंबल क्षेत्र और पूरे प्रदेश के विकास में पैसे की कमी नहीं आने देंगे, लेकिन उसके लिए हमारी सरकार का बना रहना जरूरी है। इसलिए आप सभी आने वाले चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को अपना आशीर्वाद देकर सरकार को स्थिरता प्रदान करें।

कांग्रेस की कमलनाथ सरकार ने की 7.5 करोड जनता से गद्दारीः ज्योतिरादित्य सिंधिया
लोकार्पण एवं भूमिपूजन समारोह में संबोधित करते हुए वरिष्ठ नेता एवं सांसद श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि जो लोग हमारे योद्धाओं को गद्दार कहते हैं, वो सुन लें। गद्दार वो हैं, जिन्होंने किसानों को धोखा दिया। गद्दार वो हैं, जिन्होंने कन्यादान योजना का पैसा नहीं दिया, नौजवानों को बेरोजगारी भत्ता नहीं दिया। श्री सिंधिया ने कहा कि कमलनाथ सरकार ने प्रदेश की 7.5 करोड़ जनता से गद्दारी है। उन्होंने कहा कि अगर एक वादाखिलाफी करने वाली, भ्रष्टाचार करने वाली सरकार को गिराना गद्दारी है, तो मैं ये स्वीकार करता हूं कि मैंने गद्दारी की है। श्री सिंधिया ने कहा कि सिंधिया परिवार को कुर्सी से मोह नहीं रहा, उसे तो बस ये उत्कंठा रही है कि प्रदेश का और ग्वालियर-चंबल अंचल का विकास कैसे हो। उन्होंने कहा कि मेरी दादी राजमाता जी ने डी.पी.मिश्रा की सरकार को धूल चटाई और मेरे पिताजी माधवराव जी ने म.प्र.विकास कांग्रेस बनाई। मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि जो सरकार जनविरोधी होगी, भ्रष्टाचार करेगी, उसे ज्योतिरादित्य सिंधिया जमीन पर लाता रहेगा।