कई बड़े शहरों तक फैले हवाला नेटवर्क तक पहुंच पाएगी ईडी, हाथ आए अहम साक्ष्य

0
5

 लखनऊ 
हवाला कारोबार का नेटवर्क दिल्ली, कोलकाता समेत अन्य कई बड़े शहरों से जुड़ा हुआ है। एक दिन पहले डीआरआई के हाथ लगे हवाला कारोबारी ट्रैवेल एजेंट ने कई राज उगले हैं। अब उससे मिली जानकारी पर डीआरआई की टीम अन्य हवाला कारोबारियों दबोचने की तैयारी कर रही है। इसके साथ ही मिले साबूतों को ईडी को सौंप दिया गया है। ईडी ने जांच शुरू कर दी है। 

ट्रैवेल एजेंट एक बड़े नेटवर्क का हिस्सा है जिसकी जड़ें कई पड़ोसी राज्यों तक फैली हैं। डीआरआई के अनुसार सोने के अलावा ड्रग्स के कारोबार में भी इस रैकेट के इस्तेमाल होने का संदेह है। जांच में इस बिंदु को भी शामिल किया गया है।  टीम के अनुसार अभी इस रैकेट का एक सिरा हाथ लगा है। ट्रैवेल एजेंट राजेश कुमार के पास से भारी मात्रा में विदेशी मुद्रा भी बरामद हुई है। ऐसे में किन देशों तक इस हवाला नेटवर्क के तार जुड़े हैं, इस पर भी टीमें लगाई गई हैं।

डीआरआई के अनुसार काफी इनपुट हाथ लग भी चुके हैं। ऐसे में कुछ और गिरफ्तारियां भी हो सकती हैं। बीती रात खुर्रम नगर के एक घर से राजस्व आसूचना निदेशालय (डीआरआई) ने एक करोड़ रुपए भारतीय करेंसी और विदेशी मुद्रा बरामद की थी। क्योंकि यह मामला मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़ा हुआ है इसलिए ईडी यानी प्रवर्तन निदेशालय को भी जांच में शामिल करते हुए जरूरी जानकारियां और सबूत दिए गए हैं। 

सुरक्षा में कहां लग रही सेंध बड़ा सवाल

एक टीम इस दिशा में भी काम कर रही है कि आखिर म्यांमार से किन रास्तों के जरिए देश में सोना लाया जा रहा है। दरअसल सोने और नशीले पदार्थों की तस्करी में भुगतान हवाला कारोबार के जरिए हो रहा है। कुछ बड़े नेटवर्क हैं जो सीधे गोल्ड, ड्रग्स की सप्लाई से जुड़े हैं।

कड़ी से कड़ी जोड़ते हुए इन नेटवर्क को ही ध्वस्त करना है। इस हवाला कारोबारी तक डीआरआई की टीम सोने की तस्करी की जांच करते हुए ही पहुंची थी। अब अन्य एजेंसियों की मदद से यह भी पता लगाया जा रहा है कि किन रास्तों और किन तरीकों से सुरक्षा में सेंध लगाकर सोना, डग्स, सिगरेट भारत पहुंचाई जा रही हैं।