नेताओं पर नकेल क्यों नहीं, इंदौर हाईकोर्ट ने सरकार से दो सप्ताह में जवाब मांगा

0
1

आमजन कोरोना गाइडलाइन का पालन नहीं करे तो चालानी कार्रवाई

इंदौर। मध्य प्रदेश में सांवेर समेत जहां विधानसभा के उप चुनाव हो रहे हैं वहां पर शोभायात्रा और राजनीतिक रैली में 100 से ज्यादा लोग भीड़ के रूप में जमा हो रहे हैं। इससे कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाता है। रोकथाम के लिए जारी केंद्र सरकार की गाइडलाइन का पालन भी नहीं हो रहा है। इन आरोपों को लेकर दायर जनहित याचिका पर हाईकोर्ट ने सरकार को नोटिस जारी किया है। दो सप्ताह में सरकार इस पर जवाब देगी। यह कोरोनाकाल में राजनीतिक आयोजनों में उमड़ रही भीड़ के खिलाफ दूसरी याचिका है।
अधिवक्ता मनीष विजयवर्गीय ने जनहित याचिका में मांग की है कि इस तरह के आयोजन करने वाले आयोजकों पर महामारी फैलाने के आरोप में केस दर्ज किया जाना चाहिए। आयोजकों के साथ शामिल होने वालों पर भी कार्रवाई की जानी चाहिए। सांवेर में शोभायात्रा निकलने के बाद यह चलन पूरे प्रदेश में शुरू हो गया।
हर जगह सभा, भोजन, भंडारे, शोभायात्रा निकल रही है। प्रशासन दुकानदार, बाजार, सामान्य नागरिकों पर तो गाइडलाइन का पालन नहीं करने पर चालानी कार्रवाई कर रहा है, लेकिन नेताओं पर नकेल नहीं कसी जा रही है। इनकी लापरवाही से लोगों की जान खतरे में पड़ सकती है। बहरहाल, अब दो सप्ताह बाद कोर्ट इस मामले को सुनेगी।