…तो बोर्ड परीक्षाओं के बाद होंगे निकाय चुनाव

0
456

आयोग ने दिग्विजय को दिया झटका

भोपाल। मध्य प्रदेश में अभी नगरीय निकाय चुनाव का ऐलान नहीं हुआ, लेकिन उससे पहले ही कांग्रेस की तरफ से लगातार मतपत्र के जरिए चुनाव कराने की मांग की जा रही है। हालांकि पहले भी राज्य निर्वाचन आयोग मतपत्र से चुनाव कराने की मांग को खारिज कर चुका है।

जबकि एक बार फिर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मतपत्र से चुनाव कराने की मांग राज्य निर्वाचन आयोग से की है। हालांकि इस बार भी आयोग के आयुक्त बीपी सिंह ने साफ मना कर दिया है। उन्होंने कहा कि नोटिफिकेशन ईवीएम से चुनाव कराने का जारी कर दिया गया है। चुनाव ईवीएम से ही होंगे। साथ ही यह साफ हो गया है कि अब चुनाव परीक्षाओं के बाद ही होंगे।

बीपी सिंह ने कहा कि ईवीएम से चुनाव हो इसके लिए हम नोटिफिकेशन करा चुके हैं। पहले भी इस तरीके की मांग रखी गई थी, लेकिन हम ईवीएम से चुनाव कराने को लेकर सारी व्यवस्था कर चुके हैं और उसको लेकर पहले ही नोटिफिकेशन भी जारी हो चुका है। ऐसे में चुनाव ईवीएम से ही होंगे। किसी दूसरे विकल्पों पर कोई विचार नहीं किया जाएगा।

परीक्षाओं के बाद होंगे चुनाव

मार्च में चुनाव की तारीख का ऐलान होने की संभावना जताई जा रही थी, लेकिन अब मार्च या अप्रैल में नहीं बल्कि इसके बाद आने वाले महीनों में परीक्षा होने के बाद ही चुनाव संपन्न हो सकेंग। चुनाव आयुक्त ने कहा कि परीक्षाओं में व्यवधान न हो इसका ध्यान रखा जाएगा।

अभी चुनाव की तारीख तय नहीं है, तो कैसे मानें परीक्षाओं के समय चुनाव होंगे। परीक्षा, त्यौहार सब ध्यान में रखकर चुनाव की तारीख तय होती है। चुनाव का इंतजार कर सकते हैं परीक्षाओं का नहीं। अधिकांश पोलिंग बूथ विद्यालयों में हैं और परीक्षाएं रोक कर तो वोटिंग नहीं हो सकती।