पट्टा ही नहीं..वनवासियों को सौंपा है उनका अधिकार : राजपूत

0
4

वनाधिकार उत्सव जनजाति समुदाय के वनाधिकार लाभार्थियों के चेहरे पर आई खुशी और बढ़ा उनका आत्मबल

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन के अवसर पर आयोजित हो रहे गरीब कल्याण पखवाड़े के अंतर्गत शनिवार को वन अधिकार पत्रों का वितरण किया गया। जिला स्तर पर वन अधिकार अधिनियम के अंतर्गत वन मित्र पोर्टल के माध्यम से पूर्व में दावेदार नाबालिग होने से दावेदारों द्वारा दोहरे दावा आवेदन प्रस्तुत करने, मौके पर जंगल होने, दावेदार की मृत्यु हो जाने इत्यादि कारणों से निरस्त हुए दावों का परीक्षण किए जाने हेतु सघन सर्वे अभियान चलाया जाकर दावों का निराकरण किया गया। संपूर्ण सागर जिले में 353 वन अधिकार पत्र प्रदेश के राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत, विधायक शैलेंद्र जैन, भाजपा जिला अध्यक्ष गौरव सिरोठिया तथा कलेक्टर दीपक सिंह द्वारा वितरित किए गए।

इस अवसर पर डिप्टी कलेक्टर सीएल वर्मा, सहायक संचालक जनसंपर्क सौम्या समैया, आदिम जाति कल्याण विभाग से शालिनी जैन, उप वनमंडलाधिकारी उत्तर-दक्षिण सहित अन्य अधिकारी एवं हितग्राही उपस्थित थे।
राजस्व एवं परिवहन मंत्री राजपूत ने इस अवसर पर जनजातीय समुदाय के समस्त लाभार्थियों को वन अधिकार पत्र मिलने पर बधाई दी। उन्होंने कहा कि यह केवल पत्र नहीं बल्कि उनका अधिकार है जो आज उन्हें सौंपा गया। वनाधिकार पत्र पाकर लाभार्थियों के चेहरे पर खुशी साफ झलक रही थी। वनाधिकार पट्टे मिलने से उनका आत्मबल भी बढ़ा है। अब वे अपने अधिकार क्षेत्र में अच्छी फसल उगा कर उसकी पैदावार से मुनाफा कमा सकते हैं, घर आदि बना सकते हैं।

वनवासियों के छोटे मुकदमे वापस होंगे

इस अवसर पर राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आदिवासी भाइयों के समग्र विकास के साथ उन्हें मुकदमों के बोझ से उबारने के लिये एक बड़ा फैसला लिया है। अब आदिवासी वर्ग पर लगे सभी छोटे मुकदमे वापस लिए जाएंगे।

वन और वनवासी हैं एक दूसरे के पर्याय: जैन

कार्यक्रम में मौजूद विधायक शैलेंद्र जैन ने कहा कि वन और वनवासी एक दूसरे के पर्याय हैं। वन, वनवासियों के बिना अधूरा है और वनवासी, वन के बिना। वनाधिकार पट्टे मिलने के बाद निश्चित तौर पर वनवासी, वनों के और करीब पहुँचे हैं। उन्होंने बताया कि उन्होंने बताया कि, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा घोषणा की गई है कि, फॉरेस्ट प्रोड्यूस अर्थात वन उत्पाद पर भी मिनिमम सपोर्ट प्राइस दी जाएगी। साथ ही उन्होंने कहा कि वन उत्पाद में वैल्यू एडिशन कर उसका बेहतर मूल्य प्राप्त करने की दिशा में भी काम किया जाएगा।

11 विकासखंडों में हुआ पट्टा वितरण कार्यक्रम

कलेक्टर दीपक सिंह ने बताया कि, वर्तमान में कोविड-19 के अंतर्गत कोरोना वायरस संक्रमण के कारण जिला स्तर पर वनाधिकार संबंधी संक्षिप्त कार्यक्रम आयोजित किया गया है, जिसमें प्रत्येक विकासखंड से 5 पाँच हितग्राहियों को कार्यक्रम में सम्मिलित किया गया है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री श्री मोदी के जन्मदिवस के अवसर पर गरीब कल्याण पखवाड़े के तहत वनाधिकार उत्सव मनाया जा रहा है। यह कार्यक्रम सम्पूर्ण जिले के 11 विकासखंडों में विकासखंड स्तर पर भी आयोजित किया गया है। जिसमें बीना विकासखंड के 4, केसली के 141, देवरी के 73, खुरई के 43, जैसीनगर के 12,मालथौन के 15, रहली के 24, राहतगढ़ के 3, शाहगढ़ के 29 एवं सागर से 8 पात्र पाए गए दावेदारों को वनाधिकार अंतर्गत वन भूमि के पट्टे प्रदान किए गये हैं।

मैदान में जो भी सामने आए स्वागत है: राजपूत

सागर कलेक्ट्रेट में वनवासियों को पट्टा वितरण कार्यक्रम के बाद पत्रकारों ने चर्चा करते हुए परिवहन एवं राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने पारुल साहू के कांग्रेस में शामिल होने के सवाल पर कहा कि चुनाव कभी निर्विरोध नहीं होता है और जो भी चुनाव में सामने आए उसका मैं स्वागत करता हूं । भाजपा से कांग्रेस में जाने वाले पूर्व विधायक पवन साहू के संबंध में मीडिया ने पूछा कि भाजपा उन्हें क्यों नहीं रोक पाई, जिस पर श्री राजपूत ने कहा कि यह व्यक्ति की खुद की इच्छा और मनोदशा पर निर्भर करता है कि उसे कहां जाना है।