साधु-शैतान के बाद उपचुनाव में अब मर्यादा पुरुषोत्तम की एंट्री

0
3

महाउपचुनाव: आरोप-प्रत्यारोप के साथ ही सोशल मीडिया पर पोस्टर वॉर

भाजपा के ‘मैं भी शिवराज के जवाब में कमलनाथ का ‘मैं भी मर्यादा पुरुषोत्तम अभियान

भोपाल, मध्य प्रदेश की राजनीति में साधु-शैतान के बाद अब मर्यादा पुरुषोत्तम की एंट्री हो गई है और कांग्रेस अब पूरी तरह भगवान राम की शरण में पहुंच गई है। कोरोनाकाल में डिजिटल हो रहे चुनाव प्रचार में कांग्रेस की ओर से सोशल मीडिया पर ‘मैं भी बनूंगा मर्यादा पुरुषोत्तमÓ अभियान शुरु किया गया है। कांग्रेस का यह कैंपेन भाजपा के ‘मैं भी शिवराजÓ अभियान का जवाब माना जा रहा है।

इस अभियान में कांग्रेस ने अपने नेता कमलनाथ को मर्यादा पुरुषोत्तम बताते हुए कहा कि यह लड़ाई सत्ता हरण करने वाले साधु (रावण) और मर्यादा पुरुषोत्तम (श्रीराम) के बीच है। सोशल मीडिया पर अभियान को लॉन्च करते हुए जो पोस्टर जारी किया गया है। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की फोटो लगाकर लिखा गया है- ‘मैं भी बनूंगा मर्यादा पुरुषोत्तमÓ।

मध्यप्रदेश के उपचुनाव में भगवान राम के नाम पर राजनीति का सिलसिला अयोध्या में राममंदिर के शिलान्यास से ही शुरु हो गया था। अयोध्या में राममंदिर के शिलान्यास के समय कांग्रेस ने पूरे प्रदेश में उत्सव मनाया था और प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में मर्यादा पुरुषोत्तम राम का बड़ा पोस्टर लगा था। अब जैसे-जैसे उपचुनाव नजदीक आ रहा है भगवान राम के नाम पर सियासत तेज होती जा रही।

सोशल मीडिया पर पोस्टर वॉर
पोस्टर जारी कर कांग्रेस ने भाजपा को सत्ता हरण करने वाला रावण बताया है। कांग्रेस ने कहा है कि उपचुनावों की लड़ाई सत्ता हरण करने वाले रावण और मर्यादा पुरुषोत्तम के बीच है। इससे पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को कमलनाथ पर निशाना साधते हुए ‘मैं भी शिवराज अभियान की शुरुआत की थी। उन्होंने कहा था, अगर गरीब होना गुनाह है तो ‘मैं भी शिवराज इस अभियान की शुरू होने की जानकारी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने ट्विटर पर दी थी।

कांग्रेस ने कसा था तंज
‘मैं भी शिवराज अभियान पर कांग्रेस ने पलटवार भी किया था। कांग्रेस नेता केके मिश्रा ने ट्वीट कर कहा कि प्रदेश में कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। राज्य में 7 माह में 1 लाख से अधिक संक्रमित मरीज आ चुके हैं। महामारी से ढाई हजार के करीब मौतें हो चुकी हैं। किसानों की आत्महत्याओं का अंतहीन सिलसिला जारी है, फिर भी मैं भी शिवराज या यूं कहें आप ही हैं यमराज, कहां होंगे महाराज? अब कहां जाएंगे बिकाऊ राजनैतिक कसाब?

कांग्रेस ने कहा- मैं भी नौटंकीबाज ट्राई करो
शिवराज जी को गरीब बताने वाले भाजपा के 24 घंटे के अभियान को भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं ने ही नकारा। अपनी डीपी तक नहीं बदली। भाजपा नेता व कार्यकर्ता अभियान का हिस्सा बन हंसी का पात्र नहीं बनना चाहते हैं, क्योंकि शिवराज की गरीबी की सच्चाई को सभी भली भांति जानते हैं। इस पर कांग्रेस ने कहा था- मैं भी शिवराज कैंपेन तो चला नहीं, मैं भी नौटंकी बाज ट्राई करके देखो, शायद चल जाए।

शिवराज का कांग्रेस पर पलटवार
मैं 5 बार सांसद, 5 बार विधायक, चौथी बार मुख्यमंत्री हूं, क्या नंगा-भूखा कहना उचित है
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भूखे नंगे घर से और एक्टिंग करने जैसे बयानों पर बुधवार को कमलनाथ और कांग्रेस पर निशाने साधे। उन्होंने मिंटो हॉल में पत्रकारों से बातचीत में कहा, वह कभी मुझे नंगा कहते हैं, कभी भूखा कहते हैं। फिर हिसाब लगाते हैं, उसके पास क्या-क्या है? फिर कभी कहते हैं एक्टर है। कभी कहते हैं नारियल लेकर घूमता है, कहीं भी फोड़ देता है। कभी कहते हैं, लेट जाता है। अब मैं क्या करूं, ये कमलनाथ जी बता दें। लेटूं कि बैठूं। नंगा रहूं कि भूखा रहूं। कभी संपत्ति के नाते। ये कांग्रेस की घटिया मानसिकता है, जो व्यक्तिगत घटिया आरोपों पर उतारू है।
उन्होंने आगे कहा- नंगा भूखा कहना, वास्तव में आम जनता का अपमान है। मैं पांच बार सांसद रहा, पांच बार से विधायक हूं, चौथी बार मुख्यमंत्री हूं। क्या नंगा-भूखा कहना उचित है। क्या किसी का मजाक उड़ाना ठीक है। शाहरुख खान को मात करता हूं। कभी सलमान खान को मैं मात कर देता हूं। यह कांग्रेस की संस्कृति है।
कभी नारियल ही फोड़ता रहता हूं… आज ही देख ले कांग्रेस। कोरोना काल में 107 नल-जल योजनाओं का हमने शिलान्यास किया है। पैसों के माध्यम से, फ्री में नहीं कर रहे हैं। 8 हजार करोड़ रुपए की और नल-जल योजना स्वीकृत की है। 6 हजार के टेंडर हो गए हैं। ये सब फोकट में नहीं कर रहे हैं, पैसे का इंतजाम कर रहे हैं।

भाजपा के लिए सिंधिया बड़े स्टार नहीं
भाजपा के 30 स्टार प्रचारकों की सूची में सिंधिया का नाम 10वें नंबर पर
मध्य प्रदेश में करीब सात महीने पहले कांग्रेस की सरकार गिराकर भाजपा में आए ज्योतिरादित्य सिंधिया उपचुनाव में स्टार प्रचारकों की सूची में हैं। हालांकि, उनका नाम 10वें नंबर पर है। कांग्रेस ने इसे लेकर उन पर तंज कसा है। पार्टी का कहना है कि मतलब निकलने पर अब सिंधिया को दरकिनार कर दिया गया है। कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने कहा, ‘भाजपा के स्टार प्रचारकों की सूची में सिंधिया का एक भी समर्थक शामिल नहीं, खुद सिंधिया का नाम 10वें नंबर पर।
उपचुनाव में इस बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह चुनाव प्रचार करने नहीं आएंगे। इनके अलावा भाजपा ने 30 स्टार प्रचारकों की सूची जारी की है, जिसमें प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष वीडी शर्मा पहले नंबर पर हैं। दूसरे नंबर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, तीसरे नंबर पर दुष्यंत कुमार गौतम, चौथे नंबर पर विनय सहस्रबुद्धे, पांचवें नंबर पर केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और छठे नंबर पर थावरचंद गेहलोत को स्टार प्रचारक बनाया गया है। इस सूची में 7वें नंबर पर कैलाश विजयवर्गीय का नाम है, जबकि 8वें नंबर पर केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, 9वें नंबर पर पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती को रखा गया है। दसवें नंबर पर राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को स्टार प्रचारकों की सूची में रखा गया है। राजनीतिक गलियारों में इसे सिंधिया को तवज्जो नहीं देने से जोड़कर देखा जा रहा है।

इन दिग्गजों को भी बनाया प्रचारक
इनके अलावा केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल, फग्गन सिंह कुलस्ते, प्रभात झा, नंदकुमार सिंह चौहान, राकेश सिंह, सत्यनारायण जटिया, लाल सिंह आर्य, ओमप्रकाश धुर्वे, सुधीर गुप्ता, कृष्ण मुरारी मोघे, सुहास भगत, हितानंद शर्मा, मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्र, पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव, नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह, वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा, कृषि मंत्री कमल पटेल, यशोधरा राजे सिंधिया, जयभान सिंह पवैया, उमाशंकर गुप्ता को स्टार प्रचारकों की सूची में स्थान मिला है।