JDU के साथ गठबंधन में चुनाव नहीं लडे़गी लोजपा,बीजेपी से रहेगा गठबंधन

0
1

पटना
बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Vidhansabha Chunav 2020) के लिए दिल्ली में चल रही लोक जनशक्ति पार्टी (Lok Janshakti Party) की केंद्रीय संसदीय बोर्ड की बैठक में बड़ा फैसला लिया गया है। बैठक में नीतीश कुमार(NItish Kumar) के नेतृत्व में चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया गया है। बैठक में लोजपा भाजपा सरकार का प्रस्ताव पारित किया गया है। बैठक में प्रस्ताव पास हुआ कि लोजपा के सभी विधायक, पीएम मोदी (PM Modi) के हाथों को और मज़बूत करेंगे। बैठक में एक साल से बिहार 1st बिहारी 1st के माध्यम से उठाए गए मुद्दों पर लोजपा पीछे हटने को तैयार नहीं है। लोजपा की बैठक में पार्टी के सभी सदस्य मौजूद हैं। कोरोना व ऑपरेशन के कारण पशुपति पारस और कैसर वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बैठक में जुड़े हैं।

पार्टी अध्यक्ष चिराग पासवान (chirag paswan) की अध्यक्षता में लोजपा संसदीय बोर्ड की बैठक ने बीजेपी के साथ गठबंधन के पक्ष में एक प्रस्ताव पारित किया और कहा कि उसके विधायक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के हाथ को मजबूत करने के लिए काम करेंगे। एलजेपी के राष्ट्रीय महासचिव अब्दुल खालिक ने बैठक की जानकारी देते हुए कहा कि वैचारिक मतभेदों के कारण जनता दल (यूनाइटेड) के साथ गठबंधन में लोजपा आगामी बिहार विधानसभा चुनाव नहीं लडे़गी। राष्ट्रीय स्तर व लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी और लोक जनशक्ति पार्टी का मजबूत गठबंधन है।

कई सीटों पर जेडीयू के साथ वैचारिक लड़ाई हो सकती है: एलजेपी
अब्दुल खालिक ने कहा कि बिहार में कई सीटों पर जेडीयू के साथ वैचारिक लड़ाई हो सकती है ताकि उन सीटों पर जनता निर्णय कर सके कौन सा प्रत्याशी बिहार के हित में बेहतर है। लोक जनशक्ति पार्टी 'बिहार फर्स्ट, बिहारी फर्स्ट' विजन डाॅक्यूमेंट लागू करना चाहती थी। जिस पर समय रहते सहमति नहीं बन पाई थी। उन्होंने कहा कि लोजपा का मानना है कि केन्द्र की तर्ज पर बिहार में भी भाजपा के नेतृत्व में सरकार बनें। लोजपा का हर विधायक भाजपा के नेतृत्व में बिहार को फर्स्ट बनाने का काम करेंगे।

बिहार NDA से अलग हुई एलजेपी
बीजेपी (BJP) पहले ही घोषणा कर चुकी है कि एनडीए (NDA) बिहार चुनाव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में लड़ेगा। ऐसे में राज्य में एलजेपी का एनडीए से गठबंधन टूट गया है। लेकिन केंद्र में बीजेपी के साथ गठबंधन जारी है। बीजेपी केंद्रीय चुनाव समिति विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी के उम्मीदवारों को अंतिम रूप देने के लिए आज शाम बैठक कर रही है। बिहार चुनाव के लिए 28 अक्टूबर को पहले चरण का मतदान होगा।

नीतीश के चेहरे के खिलाफ वोट मांगेगी एलजेपी
लोकजनशक्ति पार्टी (एलजेपी) ने रविवार को तय कर दिया कि एलजेपी एनडीए के घटक दल के रूप में बनी रहेगी, लेकिन बिहार विधानसभा चुनाव में वह इस गठबंधन के नेता मुख्यमंत्री नीतीश के चेहरे के खिलाफ वोट मांगेगी। इसके लिए एलजेपी बिहार में मणिपुर फॉर्म्युला आजमाएगी। दिल्ली में हुई बैठक में एलजेपी ने तय कर लिया है कि वह बिहार विधानसभा चुनाव में अपने विजन डॉक्यूमेंट के साथ उतरेगी। पार्टी जेडीयू के विजन के साथ चुनाव में वोट नहीं मांगेगी। लोजपा और बीजेपी में कोई कटुता नहीं है। एनडीए के घटक दलों के बीच कई सीटों पर फ्रेंडली फाइट हो सकती है।