लामता के शिक्षक विहीन शासकीय विद्यालय में ‘संवर’ रहा बच्चों का भविष्य..!

0
3

3 वर्षो से बिना प्राचार्य के चल रही स्कूल संस्था

rafi ahmad ansari

बालाघाट। लामता का शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय गत वर्षों से शिक्षकों के अभाव में संचालित हो रहा है जिस कारण यंहा का शिक्षा स्तर भी गिर रहा है। जिसको लेकर पालक एवं अभिभावक बच्चों की पढ़ाई को लेकर बेहद चिन्तित है। दरअसल, सुत्रो से मिली जानकारी अनुसार इस विद्यालय में शिक्षको के 25 पद स्वीकृत है, लेकिन 23 पद रिक्त पडे है।

वर्तमान में यहां मात्र एक शिक्षक निलेश नेमा एवं एक शिक्षिका पदस्थ है जहां निलेश नेमा को प्राचार्य का कार्यभार दिया गया है। इस विद्यालय में भौतिकी 1 ,रसायन 1 ,इतिहास 2,अर्थशास्त्र 1 ,हिंदी 4,अंग्रेजी 4,गणित 2,संस्कृत 3 ,विज्ञान 3 ,विज्ञान सहायक 2 ये सभी विषयों के पद रिक्त है जिससे प्रतीत होता है कि इस विद्यालय में पढ़ने वाले विद्यार्थियो का भविष्य अंधकार की ओर ढकेला जा रहा है। इस विद्यालय में 4 वर्षो से गणित ,अंग्रेजी, विषयो के शिक्षक पदस्थ नही है उसी प्रकार रसायन शास्त्र ,भौतिक शास्त्र के शिक्षक भी पदस्थ न होने के कारण 3 वर्षो से शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय लामता का परीक्षा परिणाम का स्तर गिरते जा रहा है। इसका असर सबसे ज्यादा गरीब बच्चों पर हो रहा है जो ट्यूशन कोचिंग करने में असमर्थ रहते है।

3 वर्षो से शिक्षकों के अभाव में हो रही पढ़ाई

लामता शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में नियमित शिक्षको की पद रिक्त होने से इस स्कूल में अतिथि शिक्षको के द्वारा पढ़ाई कराई जाती है। परन्तु प्रशासन इस सत्र मे क्या व्यवस्था करती है ये छात्र छात्राओं एवं पालको के समझ से परे है। इससे 9 से 12वी तक के छात्र छात्राओं के भविष्य पर शिक्षा-संकट के काले बादल मंडरा रहे है। प्रभारी प्राचार्य निलेश नेमा ने बताया कि शास. उच्च. माध्य. विद्यालय लामता में शिक्षको का अभाव है। यंहा सिर्फ दो ही शिक्षक ही है जिन्हे स्कूल का संचालन करने में भारी दिक्कते हो रही है। इस संदर्भ में उन्होने जिला शिक्षा अधिकारी,खण्ड शिक्षा अधिकारी को जानकारी दे दी है लेकिन उन्हे प्रतिवर्ष आश्वासन ही मिल रहा है। वर्तमान समय मे उच्च अधिकारी के आदेश के बिना अतिथि शिक्षक नही रख सकते। उन्होंने बताया कि शिक्षको की समस्या बहुत गम्भीर है इस स्कूल में अंग्रेजी गणित रसायन भौतिकी विषय का शिक्षक न होने से और भी समस्या जटिल हो गई है। वही ग्रामीणों ने आयुष मंत्री से क्षेत्रीय दौरे के दौरान शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय लामता में शिक्षको की कमी के बारे में बताया था जिस पर आयुष मंत्री कावरे ने कहा कि अभी स्कूल बंद है हर स्कूलों में यही हालत है बाद का विषय है मैं देखता हूं। जहां इस प्रकार के कथन सुनकर ग्रामीण शांत हो गए।

शास. उच्च. माध्य. विद्यालय लामता में शिक्षको के रिक्त पद एवं शिक्षा के गिरते स्तर को उच्च स्तर तक पहुचाने के लिये पालक किसके पास जाये और किस आफिस का दरवाजा खटखटायें, जिससे शिक्षको के रिक्त पदो को शीघ्र भरा जा सके।