बारिश से जमींदोज हुआ बनेसिंह का कच्चा मकान, बरसाती के साए में जिंदगी गुजारने को मजबूर

0
3

amjad khan
शाजापुर। बारिश का दौर लगभग थम चुका है लेकिन तेज बूंदों से बिखरी कई लोगों की जिंदगी अब भी समेटी नही जा सकी है, और यही कारण है कि बारिश की बूंदों के कारण जमींदोज हुए कई गरीबों के घरोंदों को लेकर अब तक जिम्मेदारों ने कोई सुध नही ली है। नतीजतन गरीब परिवार बेबसी से जिंदगी जीने को मजबूर हैं। गौरतलब है कि गतदिनों हुई बारिश के कारण कई लोगों के कच्चे मकान टूट गए थे और इन लोगों में गांव देवली का रहने वाला बनेसिंह का परिवार भी शामिल है। बनेसिंह का कहना है कि तेज बारिश के कारण मकान की दीवारें बिखर कर जमीं पर आ गिरीं थी। मौके पर पटवारी आए और पंचनामा बनाकर चले गए, तब से मदद के इंतजार में खाली ईंटों पर बरसाती बांधकर रहने को मजबूर हैं। छत और दीवारों के बिखर जाने से काफी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है और रातें भी बेचैनीभरी साबित हो रही है। बनेसिंह ने मांग की है कि उसकी समस्या का समाधान किया जाए।

बरसाती के साए में जिंदगी
ग्राम देवली के रहने वाले बनेसिंह का मकान ढहे एक माह से अधिक का समय हो चुका है, लेकिन पंचायत स्तर से लेकर जिला प्रशासन के द्वारा अब तक गरीब परिवार की सुध नही ली गई है। जिम्मेदारों की अनदेखी के कारण बनेसिंह और उसके परिवार के लोगों की जिंदगी फिलहाल बरसाती के साए में गुजर रही है। बनेसिंह ने बताया कि उसकी आर्थिक स्थिति बेहद कमजोर है, ऐसे में वह मकान का निर्माण नही कर सकता है। शासन-प्रशासन की ओर से आर्थिक मदद मिल जाएगी तो टूटे हुए मकान को जोडऩे का काम शुरू कर देगा।