आजम खान को एक और झटका, बहन के लिए आवंटित बंगला निरस्त

0
8

लखनऊ , नगर निगम ने सपा सांसद व पूर्व नगर विकास मंत्री आजम खां की बहन नकहत अफलाक के नाम रिवर बैंक कालोनी में आवंटित बंगला निरस्त कर दिया है। बंगले को 15 दिनों में खाली करने का आदेश दिया गया है। यह बंगला लगभग 13 वर्ष पहले किराए पर आवंटित किया गया था।

बंगला निरस्तीकरण की कार्रवाई एक शिकायती पत्र पर हुई है। रामपुर निवासी मुस्तफा हुसैन ने आठ जुलाई को मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर अवैध तरीके से बंगला आवंटन की शिकयत की थी। मुख्यमंत्री कार्यालय से दस अगस्त को पत्र आने के बाद नगर निगम में हड़कम्प मच गया था। यह बंगला पॉश कालोनी रिवर बैंक में आवास संख्या ए-2/1 है। इसे वर्ष 2007 में नगर निगम ने किराए पर आवंटित किया था। जांच में उस समय बंगले पर ताला बंद था। नगर निगम ने  नोटिस जारी की थी। बाद में निकहत ने बंगले में रहने की बात कहते हुए नगर निगम को जवाब दिया था।

मुस्तफा का आरोप था कि निकहत अफलाक  रामपुर की स्थायी निवासी हैं। वह राजकीय कमल लका जूनियर हाई स्कूल रामपुर में कार्यरत थीं। लिहाजा वह लखनऊ में निवास भी नहीं करती थीं। उन्होंने इंदिरानगर के फर्जी पते पर बंगला आवंटित कराया है। जांच में भी पाया गया कि निकहत अफलाक को सेवानिवृत्ति के पश्चात बंगला आवंटित किया गया था। उनको पहले जी-11 आवंटित हुआ था। बाद में आलीशान ए-2/1 आवंटित किया गया। उस समय निकहत अफलाक किसी सरकारी सेवा में नहीं थी और न लखनऊ में कार्यरत थीं। नगर निगम ने उनको 15 दिन के अन्दर आवास में मौजूद सामान बाहर निकालकर शान्तिपूर्ण ढंग से बंगला खाली करने की नोटिस दी गई है। अजय कुमार द्विवेदी, नगर आयुक्त ने बताया कि रिवर बैंक कालोनी में बंगला आवंटन त्रुटिपूर्ण था। जांच में पुष्टि होने के बाद ही बंगला आवंटन निरस्त किया गया है। 15 दिनों में बंगला खाली करने का आदेश दिया गया है।