अवनीश अवस्थी, एडीजी प्रशांत कुमार बलरामपुर में गैंगरेप पीड़िता के परिवार से मिले

0
5

बलरामपुर, हाथरस केस में हो रही सियासी जंग के बीच योगी सरकार के अधिकारियों ने बलरामपुर गैंगरेप पीड़िता के परिजनों से मुलाकात की। यहां भी दलित छात्रा की गैंगरेप के बाद मौत हो गई थी। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी के साथ एडीजी लॉ ऐंड ऑर्डर प्रशांत कुमार बलरामपुर पहुंचे थे। सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर दोनों अधिकारी गैंसड़ी कोतवाली आए हैं। इससे पहले डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी के साथ अवनीश अवस्थी ने हाथरस में पीड़ित परिवार से मुलाकात की थी। पीड़िता के परिजनों से घटना की जानकारी लेने के बाद दोनों अधिकारी जनप्रतिनिधियों से भी मुलाकात करेंगे। जिले के आला-अधिकारी भी इस दौरान मौजूद रहेंगे। इसके बाद तुलसीपुर चीनी मिल्स गेस्ट हाउस में बलरामपुर गैंगरेप मसले पर पत्रकार वार्ता भी होगी। पीड़िता के परिवार से मिलने के बाद दोनों अधिकारी देवीपाटन शक्तिपीठ भी जाएंगे। वहां दर्शन और पूजापाठ करेंगे।

छात्रा के साथ हुई थी हैवानियत
बता दें कि बलरामपुर मामले में अब तक 4 लोगों को गिरफ्तार करके जेल भेजा जा चुका है। बलरामपुर के गैसड़ी कोतवाली क्षेत्र में छात्रा के साथ हुई हैवानियत में आई पीएम रिपोर्ट में छात्रा से गैंगरेप की पुष्टि हुई है। रिपोर्ट की मानें तो छात्रा की मौत लीवर और आंत में गंभीर चोट लगने के कारण हुई है। चोट के कारण पीड़ित छात्रा की आंत फट गई और अधिक खून जमा होने के कारण उसकी मौत हो गई।

दुकान के कमरे में ले जाकर किया था गैंगरेप
छात्रा के शरीर में कई जगह हरे रंग के स्पॉट भी मिले थे। यह निशान आंत में अधिक खून जमा होने के कारण शरीर पर उभर आए थे। बीते 29 सितंबर को छात्रा बी.कॉम कक्षा में ऐडमिशन कराकर वापस लौट रही थी तो करीब 6-7 लोगों ने छात्रा का अपहरण कर लिया और एक दुकान के कमरे में ले जाकर गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया।

इस मामले में केस दर्ज कर 4 गिरफ्तार
पुलिस ने इस मामले में 366, 376-डी, 302 और एससी एसटी ऐक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया है और अब तक दो नामजद सहित 4 लोगों को गिरफ्तार करके जेल भेज चुकी है। इसमें दो वे आरोपी है, जिन्होंने गैंगरेप के बाद अपने घर पर छात्रा के इलाज के लिए चिकित्सक को बुलाया था। इनमें से एक रिक्शा चालक है जो छात्रा को घर लेकर गया। और एक कम्पाउंडर है, जिसने छात्रा के हाथ पर वीगो लगाया था। मामले में परिजन के आरोप पर पुलिस जेल भेजे गये आरोपियों के मित्रों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।