बारनवापारा अभ्यारण में शिकार करते दो आरोपी गिरफ्तार

0
2

रायपुर
राज्य में वन्य प्राणियों के शिकार को रोकने तथा शिकारियों पर नकेल कसने के लिये वन मंत्री और विभाग के आदेश के बाद राज्य में वन्य प्राणियों का शिकार करते हुए आरोपियों को पकडऩे की मुहिम तेज हो गई है। दो दिन पूर्व बिलासपुर वनमंडल के वन परिक्षेत्र बिटकुला में वन्यप्राणियों सियार का शिकार करते एक ही गांव के पांच आरोपियों को वन विभाग की टीम ने पकड़ा और शनिवार को बारनवापारा अभ्यारण्य क्षेत्र सांभार का शिकार करते दो आरोपियों को वन विभाग की टीम ने पकड़ा। वनमंत्री मोहम्मद अकबर के निर्देशन में राज्य में वन विभाग द्वारा वन अपराधों की रोकथाम के लिए सतत् अभियान चलाया जा रहा है।

बताया जाता है कि वनमंडल बलौदाबाजार के अंतर्गत बारनवापारा अभ्यारण्य क्षेत्र में शनिवार 19 सितंबर को सांभर के शिकार के मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ वन अधिनियम के धारा के तहत कार्रवाई की गई। आरोपियों के पास से एक नग मोबाइल और एक अल्टो कार सीजी-04 एचएल 7234 सहित शिकार में प्रयुक्त अन्य सामग्रियां भी जब्त की गई है। इस संबंध में अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक अरूण पाण्डेय ने बताया कि वनमंडलाधिकारी बलौदाबाजार आलोक तिवारी के निदेर्शानुसार वन विभाग की गठित टीम द्वारा सांभर के अवैध शिकार के मामले में संलिप्त अन्य आरोपियों की गहन खोजबीन जारी है।

बलौदाबाजार वनमंडल के देवपुर वन परिक्षेत्र अंतर्गत सभी बेरियरों में वन विभाग की टीम द्वारा जांच की जा रही थी। इस दरम्यान रात्रि 8.30 बजे बया बेरियर में एक अल्टो कार को संदिग्ध हालत में पाया गया। कार की जांच करने पर कार की डिक्की में पाए गए बोरी में 46 किलोग्राम वन्यप्राणी सांभर का मांस भरा हुआ था। मौके पर धर्मेन्द्र कश्यप ग्राम कलमीदादर को धर-दबोचा गया। आरोपी कश्यप ने बोरी में रखे मांस को सांभर का मांस होना बताया और इसे ग्राम पकरीद निवासी गौतरिहा बरिहा के घर से खरीदकर लाना बताया।जिसके आधार पर वन विभाग के गठित टीम द्वारा 20 सितंबर की सुबह आरोपी बरिहा के घर में छापामार कर शिकार में प्रयुक्त जी.आई. तार आदि सामग्रियों और वन्यप्राणी सांभर के कटे अवशेष को जब्त किया गया। अभी कार्रवाई के दौरान दोनों आरोपी धर्मेन्द्र कश्यप और गौतरिहा बरिहा को गिरफ्तार कर लिया गया है।