प्यारे मियां के केस में अभिनेता रजा मुराद बने सरकारी गवाह

0
1

भोपाल

मध्‍य प्रदेश की राजधानी भोपाल में बच्चियों के यौन शोषण के बहुचर्चित प्यारे मियां केस में मशहूर अभिनेता रजा मुराद   भी लपेटे में आ गए हैं. रजा मुराद भोपाल के श्यामला हिल्स थाने पहुंचे और प्यारे मियां पर दर्ज धोखाधड़ी के केस में अपना बयान दर्ज कराया. इस केस में पुलिस  ने उन्हें सरकारी गवाह बनाया है.

जिस फर्जी सोसायटी में रजा मुराद को सदस्य बनाया गया था, प्यारे मियां ने उस सोसाइटी में फर्जी तरीके से रजा मुराद के जाली साइन किए थे. मुराद ने अपने बयानों में बताया कि वह अंग्रेजी में साइन करते हैं और अपना पूरा रजा मुराद नाम लिखते हैं. जबकि प्यारे मियां ने उनके जाली साइन कर सिर्फ रजा नाम लिखा है. पुलिस ने अब इस बयान को केस डायरी में शामिल किया है.

रजा मुराद के जाली साइन
रजा मुराद ने बताया कि उनका भोपाल के अंसल अपार्टमेंट में एक फ्लैट है. इसमें वह कभी भी नहीं रहे. लेकिन यहां फ्लैट होने के कारण वो अपार्टमेंट की मुख्य सोसाइटी के सदस्य हैं. प्यारे मियां ने इसकी आड़ में जो फर्जी सोसाइटी बनायी है,उसमें वह कभी सदस्य नहीं रहे. रजा मुराद ने बताया कि उन्होंने पूरी सच्चाई पुलिस को अपने बयानों में बताई. पुलिस से उन्होंने इस मामले में कार्रवाई करने की मांग की है. उनका कहना है वह कभी भी प्यारे मियां की फर्जी सोसाइटी के सदस्य नहीं रहे हैं.

ये है पूरा मामला
श्यामला हिल्स थाना प्रभारी तरुण भाटी ने बताया कि आरोपी प्यारे मियां ने अंसल अपार्टमेंट के ई-ब्लॉक में अपनी पत्नियों और बेटे के नाम से तीन फ्लैट लिए थे. इसी ब्लॉक में भारती एयरटेल कंपनी का भी एक फ्लैट था. बिल्डिंग की छत पर कंपनी का एक मोबाइल टावर भी लगा हुआ था, जिसका संचालन एयरटेल कंपनी कर रही थी. 10 साल पहले प्यारे मियां ने वकील के माध्यम से कंपनी को नोटिस भेजकर टावर हटाने की बात कही. इसके साथ ही वह कंपनी के कर्मचारियों को विभिन्न तरीकों से परेशान करने लगा.कंपनी ने जब प्यारे मियां से बात की तो उसने टावर के किराये का पैसा मांगा. इस तरह कंपनी से करीब सवा करोड़ रुपए उसने ऐंठ लिए.बाद में पुलिस में शिकायत की गयी कि एयरटेल कंपनी की तरफ से कहा गया था कि वह किसी व्यक्ति नहीं, बल्कि सोसायटी से अनुबंध करते हैं. इस पर प्यारे मियां ने ई-ब्लॉक में रहने वाले आठ लोगों के नाम से फर्जी सोसायटी बना ली.इसी मामले में रजा मुराद का कहना है उसके जाली साइन प्यारे मियां ने किए. और अब इसी केस में रजा मुराद सरकारी गवाह बनकर अपने बयान दर्ज कराने आए थे.