क्या तीन मानव बम से फिदायीन हमले की प्लानिंग कर रहा था आतंकी अबू यूसुफ?

0
1

 नई दिल्ली 
दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के हत्थे चढ़े आतंकी मोहम्मद मुस्तकीम खान उर्फ अबू यूसुफ के घर से मानव बम वाले दो जैकेट और एक बेल्ट समेत तीन फिदायीन हमले के हथियार बरामद किए गए हैं। इसके आधार पर यह माना जा रहा है कि मुस्तकीम के अलावा इस मॉड्यूल में दो अन्य लोग भी फिदायीन हमलावर बनने के लिए तैयार थे। इस बात के मद्देजनर गिरफ्तार आरोपी से सघन पूछताछ की जा रही है कि आखिरकार उसके अलावा वे दो कौन हैं, जिनके लिए उसने मानव बम का सामान तैयार किया था। 

स्पेशल सेल के अधिकारियों के मुताबिक, संदिग्ध आतंकी से लगातार पूछताछ की जा रही है और उसके पूरे नेटवर्क को खंगाला जा रहा है, ताकि यह पता लगाया जा सके कि उसके अलावा जो दो अन्य आरोपी आत्मघाती हमलावर बनने के लिए तैयार थे, क्या उन्हें मुस्तकीम ने ही तैयार किया था। या फिर वे भी सीमापार के आईएस के हैंडलर से जुड़े हुए थे। 

दरअसल, शुक्रवार को अपनी गिरफ्तारी के बाद शुरुआती पूछताछ के दौरान, खान ने पुलिस को बताया था कि अफगानिस्तान में आईएसकेपी (इस्लामिक स्टेट ऑफ खुरासान प्राविंस) के एक कमांडर ने उसे बताया था कि दिल्ली में आईईडी विस्फोटों को सफलतापूर्वक अंजाम देने के बाद उसे फिदायीन हमला भी करना है। इसके लिए वे उसे निर्देश देंगे व बताएंगे कि उसे कहां वारदात को अंजाम देना है और इस काम में उसकी कौन लोग मदद करेंगे। 

पटाखे वाले से लिया था विस्फोटक
स्पेशल सेल की पूछताछ में आरोपी मुस्तकीम ने बताया है कि उसने आईईडी ब्लास्ट और मानव बम वाला जैकेट व बेल्ट तैयार करने के लिए विस्फोटक एक पटाखे वाले से लिए थे। ऐसे में पुलिस अब उस पटाखे वाले की तलाश में जुटी है, जिसने उसे विस्फोटक मुहैया कराया था। पुलिस यह जानना चाहती है कि आखिरकार पटाखे वाले से आरोपी ने क्या कहकर विस्फोटक् लिया था? कहीं उसे भी तो मुस्तकीम के नापाक इरादों के बारे में जानकारी नहीं थी। कहीं वह भी तो उसकी इस नापाक मंशा में शामिल नहीं था। 

नेटवर्क के चार लोगों की पहचान
मुस्तकीम के करीबी नेटवर्क के चार लोगों की स्पेशल सेल ने पहचान भी कर ली है। इनमें उसे हथियार, विस्फोटक मुहैया कराने, उसकी एक जगह से दूसरी जगह जाने और रहने-खाने की व्यवस्था करने के अलावा अन्य जरूरी मदद पहुंचाने वाले शामिल हैं। हालांकि मुस्तकीम की गिरफ्तारी के बाद से ही ये चारों फरार हैं। पुलिस इनकी तलाश में छापेमारी कर रही है। इसके लिए तकनीकी टीम जहां उनकी आखिरी लोकेशन के आधार पर उनतक पहुंचने का प्रयास कर रही है, वहीं मुखबिरों के जरिए भी उनके बारे में जानकारी जुटाने में लगी है।