युवक को गैरजातीय विवाह पडा भारी, दुल्हन के परिजनों ने दूल्हे को उतारा मौत के घाट

0
18

हैदराबाद, हैदराबाद में एक युवक को गैरजातीय विवाह करना भारी पड़ गया. दुल्हन के घरवालों ने कथित तौर पर 28 साल के युवक का अपहरण कर उसकी हत्या कर दी. युवक की हत्या के बाद शव मिलने पर पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी. पुलिस इसे ऑनर किलिंग मान रही है.

चंदननगर निवासी हेमंत वैश्य और अवंती की प्रेम कहानी फेसबुक के जरिए शुरू हुई थी. दोनों जल्द ही दोस्त बन गए और एक-दूसरे को जानने के लिए घंटों साथ बिताते लगे. घनिष्ठता बढ़ने के बाद दोनों ने शादी करने का फैसला कर लिया लेकिन यह बात युवती के परिजनों को नागवार गुजरी.

परिवार के फैसले के खिलाफ दोनों 10 जून को शादी के बंधन में बंध गए. दोनों की जाति अलग-अलग होने की वजह से युवती का परिवार इस शादी के खिलाफ था.

दंपति ने सोचा था कि 10 जून को शादी का प्रमाण पत्र मिलने के बाद वे सुरक्षित हैं और दो दिन बाद साइबराबाद के पुलिस आयुक्त वीसी सज्जनकर से जाकर मिले. शादी के बाद, दंपति ने पुलिस से अपनी जान को खतरा होने की आशंका जताई थी.

सज्जनर के हवाले से कहा गया कि, ‘मैंने चंदन नगर पुलिस को निर्देश दिया था कि वह महिला के माता-पिता को बुलाकर उनकी काउंसलिंग करे. इंस्पेक्टर की रिपोर्ट के अनुसार, महिला के माता-पिता दंपति को अकेला छोड़ने के लिए तैयार हो गए थे ”

पुलिस के अनुसार, अवंती के दो चाचा एक दिन उनके घर पहुंचे, उन्होंने दंपती को बाहर बुलाया और कार से कहीं ले गए. रास्ते में ही अवंति के पति हेमंत की उन्होंने गला दबाकर हत्या कर दी. हेमंत का शव घर से लगभग 20 किलोमीटर दूर पाया गया था.

पुलिस ने बताया कि यह साफ तौर पर ऑनर किलिंग का मामला था. इस मामले में अब तक 14 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है, जिनमें अवंति के दो चाचा, अवंती के पिता डी लक्ष्मी रेड्डी और मां अर्चना, और तीन कथित रूप से पैसे लेकर हत्या करने वाले लोग शामिल हैं.

अवंति ने घटना के बाद बताया, ”मुझे इस बात की कोई चिंता नहीं थी कि मेरा परिवार हेमंत को नुकसान पहुंचाएगा, हम लोग शिक्षित थे. मैंने कभी नहीं सोचा था कि मेरे पति को हैदराबाद जैसे बड़े शहर में जाति के नाम पर मार दिया जाएगा. मेरे परिवार ने सिर्फ हेमंत की हत्या नहीं की है, उन्होंने मेरा जीवन छीन लिया है.

ऑनर किलिंग मामले में दंपति के दोस्त और सामाजिक कार्यकर्ता विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. वे मामले में न्याय की मांग कर रहे हैं.