पश्चिम बंगाल ‘अवैध बम बनाने का अड्डा’ बन गया है: राज्यपाल धनखड़

0
9

नई दिल्ली, पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने एक बार फिर से राज्य सरकार की आलोचना की है. इस बार राज्य सरकार को निशाने पर लेते उन्होंने हुए कहा है कि पश्चिम बंगाल ‘अवैध बम बनाने का अड्डा’ बन गया है और राज्य प्रशासन कानून और व्यवस्था में ‘चिंताजनक गिरावट’ के लिए अपनी जिम्मेदारी से बच नहीं सकता है.

गैरकानूनी बम बनाने में बढ़ोत्तरी का यह आरोप बंगाल से आंतकवादियों की गिरफ्तारी के बाद आया है. बता दें कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन अलकायदा द्वारा भारत में ठिकाना बनाने की कोशिश का भंडाफोड़ किया है और पश्चिम बंगाल एवं केरल में उस पर शिकंजा कसते हुए नौ सदस्यों को गिरफ्तार किया है. यह जानकारी भी एजेंसी के अधिकारिक प्रवक्ता ने शनिवार को ही दी.

एर्णाकुलम और मुर्शिदाबाद में छापेमारी कर 9 लोगों को गिरफ्तार किया
प्रवक्ता ने बताया कि केंद्रीय खुफिया एजेंसियों से मिली जानकारी के आधार पर एनआईए ने राज्य पुलिस के साथ मिलकर 18-19 सितंबर की दरमियानी रात केरल के एर्णाकुलम और पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में छापेमारी कर नौ लोगों- मुर्शिद हसन, याकूब बिस्वास, मुसरफ हुसैन को एर्णाकुलम से जबकि नजमुस साकिब, अबू सुफियान, मैनुल मंडल, लियू यिन अहमद, अल मामून कमाल और अतितुर रहमान को मुर्शिदाबाद से- गिरफ्तार किया.

एनआईए प्रवक्ता ने बताया कि केरल से गिरफ्तार हसन गिरोह का सरगना है और मूल रूप से पश्चिम बंगाल का रहने वाला वाला है. उल्लेखनीय है कि 11 सितंबर को अलकायदा के मॉड्यूल की जांच के लिए शीर्ष जांच ऐंजसी द्वारा प्राथमिकी दर्ज किए जाने के बाद एनआईए और अन्य केंद्रीय एजेंसियों की कड़ी निगरानी में अभियान को शुरू किया गया.

पटाखों को (IED) बनाने की कोशिश की जा रही थी
अधिकारी के मुताबिक पटाखों को इम्प्रोवाइस्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (IED) में तब्दील करने की कोशिश की जा रही थी और छापेमारी के दौरान एनआईए ने अबू सुफियान के घर से स्विच और बैटरी बरामद की है. अधिकारी ने बताया कि समूह हथियार प्राप्त करने के लिए कश्मीर जाने की योजना बना रहा था क्योंकि उसका इरादा निर्दोष लोगों की हत्या के मकसद से प्रमुख प्रतिष्ठानों पर हमला करना था.