…तो बद्द्तर होते दिल्ली के हालात: सांसद गौतम गंभीर

0
45

नई दिल्ली, दिल्ली में कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते मामलों के बीच पूर्वी दिल्ली के भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सांसद गौतम गंभीर ने कहा कि इस मामले में दिल्ली सरकार देर से जागी है. गंभीर ने कहा, केंद्र सरकार के दखल के बाद हालात काफी सुधरे हैं. आम आदमी पार्टी की सरकार पर निशाना साधते हुए बीजेपी सांसद गौतम गंभीर ने कहा कि दिल्ली सरकार पहले काम करने के बजाय नाम के लिए ही सोचती रही, लेकिन उनको समझना चाहिए कि नाम के लिए काम नहीं बल्कि काम से ही नाम होता है.

पूर्वी दिल्ली की गीता कॉलोनी में आधुनिक सुविधाओं से लैस 50 बिस्तरों वाले कोविड सुविधा केंद्र की चाबी दिल्ली सरकार को सौंपने के बाद गंभीर ने कहा कि दिल्ली सरकार ने अगर मार्च या फिर अप्रैल में गंभीरता दिखाई होती तो हालात ऐसे भयावह नहीं होते. जब हालात बेकाबू होने लगे और दिल्ली सरकार के हाथ पैर फूले तो केंद्र सरकार आगे आई. गंभीर ने कहा कि बीजेपी और केंद्र सरकार ने दिल्ली की जनता और सरकार को साथ लेकर कोरोना को मात देने की ठान ली है. जनता को भी अपनी हिस्सेदारी और भागीदारी सुनिश्चित करनी चाहिए.

बता दें, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली एनसीआर में कोविड के खिलाफ सरकार की तैयारियों में खुद आगे आकर कई पहल की शुरुआत की है. टेस्ट से लेकर कोविड केयर सेंटर के निर्माण तक में उन्होंने प्रमुखता से अपनी भागीदारी निभाई है. खासकर दिल्ली में वे सरकार और स्थानीय अधिकारियों के लगातार संपर्क में हैं. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ उनकी कई बैठकें हो चुकी हैं. दिल्ली के आसपास के राज्यों के साथ भी उनकी बैठकें चल रही हैं जिसमें कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए नए-नए निर्देश जारी किए जा रहे हैं.