राज्यपाल एवं उच्चशिक्षा मंत्री ने दो शैक्षिक भवनों का आनलाईन भूमिपूजन किया

0
3

पारंपरिक पाठ्यक्रम के साथ योग की शिक्षा विद्यार्थियों की गुणवत्ता में वृद्धि करेगी-प्रभारी राज्यपाल श्रीमती आनन्दीबेन पटेल

संस्कृत विश्वविद्यालय के माध्यम से ज्ञानरूपी अमृत समाज को प्राप्त होगा-उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.यादव

brijesh parmar
उज्जैन । महर्षि पाणिनि संस्कृत एवं वैदिक विश्वविद्यालय उज्जैन में योगेश्वर श्रीकृष्णयोग भवन तथा आचार्य सांदीपनि शिक्षा भवन का मध्य प्रदेश की प्रभारी राज्यपाल श्रीमती आनन्दीबेन पटेल एवं उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव ने सोमवार को दो शैक्षिक भवनों का ऑनलाइन भूमिपूजन किया।

ऑनलाइन शिलान्यास समारोह की अध्यक्षता करते हुए मध्य प्रदेश की प्रभारी राज्यपाल श्रीमतीआनन्दीबेन पटेल ने अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में कहा कि विश्वविद्यालय में पारंपरिक पाठ्यक्रम के साथयोग की शिक्षा विद्यार्थियों की गुणवत्ता में वृद्धि करेगी। सर्वांगीण विकास के लिए भारतीय शिक्षा पद्धतिपरम आवश्यक है। विभिन्न डिप्लोमा पाठ्यक्रम जो ऑनलाइन संचालित किए जा रहे हैं छात्रों के सर्वांगीणविकास के लिए उपकारक सिद्ध होंगे।

आत्मनिर्भरता के लिए आत्मानुशासन होना चाहिए और यह अनुशासनउचित शिक्षा से ही प्राप्त होता है। नई शिक्षा नीति में छात्रों के मनोवैज्ञानिक पक्ष को ध्यान में रखकर तैयारकी गई है, निश्चय ही भारतीय ज्ञान पद्धति के साथ यह नई शिक्षा नीति भारत देश को उन्नति प्रदानकरेगी। समारोह में ऑनलाइन के माध्यम से मुख्य अतिथि उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव ने कहा कि उज्जैन नगरी से संस्कृत विश्वविद्यालय का तादात्म्य संबंध है। सम्माननीय वेदों में तथा पुराणों में अपूर्वज्ञान विज्ञान का भंडार निहित है।

मुझे विश्वास है कि संस्कृत विश्वविद्यालय के माध्यम से यह ज्ञानरूपी अमृत समाज को प्राप्त होगा। जिस तरह महर्षि सांदीपनि से 64 प्रकार का ज्ञान प्राप्त कर श्रीकृष्ण पुरुषोत्तम हुए। ठीक उसी प्रकार यहां के छात्र श्रेष्ठ मानव सिद्ध होंगे। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.यादव ने कहा कि मैंविश्वविद्यालय की स्थिति तथा परिस्थिति से पूरी तरह परिचित हूं। मेरा पूरा प्रयास होगा कि विश्वविद्यालयकी जो जरूरतें हैं और जो शिक्षकों की नियुक्तियां करनी है, वह सब राज्यपाल महोदया के आशीर्वाद से हमपूरा करेंगे, जिससे यह विश्वविद्यालय निश्चित रूप से यूजीसी की 12बी तथा नैक के मापदंड को पूराकरेगा। इस अवसर पर उज्जैन में विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ.पंकज लक्ष्मण जानी, उप कुलपति प्रो.मनमोहन उपाध्याय, कुलसचिव डॉ.एल एस सोलंकी, विभागाध्यक्ष डॉ.तुलसीदास परोहा सहित प्राध्यापक,कर्मचारी एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित थे। उद्घाटन स्वागत भाषण एवं प्रासंगिक उद्बोधन प्रस्तुत करते हुए कुलपति डॉ.पंकज लक्ष्मण जानी ने राज्यपाल तथा उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव के प्रति स्वागत भाषण प्रस्तुत करते हुए कृतज्ञता व्यक्तकी। उपकुलपति डॉ.मनमोहन उपाध्याय ने कुलाधिपति का तथा मंत्री का विश्वविद्यालय परिवार की ओरसे आभार माना। कार्यक्रम का ऑनलाइन प्रसारण गूगल मीट तथा फेसबुक के माध्यम से किया गया, जिसमें जुड़कर सैकड़ों लोगों ने इस कार्यक्रम को लाइव देखा। कार्यक्रम का औपचारिक समापन कल्याण मंत्र के साथ हुआ।