आरक्षक के भाई फारूक ने पम्मी लंगडे से बनवाई थी जहरीली शराब

0
36

भैरवगढ थाने में रात तीन बजे तक कलेक्टर-एसपी ने पूछताछ की आरोपियों से

brijesh parmar
उज्जैन।डीनेचर स्प्रीड से झिंझर बनाने के मामले में कलेक्टर आशीषसिंह और एसपी मनोजकुमारसिंह ने शनिवार रात को आरोपियों से भैरवगढ थाने में पूछताछ की थी।इस दौरान यह बात सामने आई की आरक्षक अनवर के भाई फारूक ने पम्मी लंगडे को बुलाकर उससे झिंझर बनवाई थी।11 अक्टुबर को इसका टेस्ट भी किया गया था।बाद में 13 को बनाई गई झिंझर की पोटली जहरीली बन गई और उसे पीकर 13 मजदूरों की मौत हो गई।

एसपी मनोज कुमार सिंह के अनुसार पूछताछ में आरोपी यूनुस,सिकंदर,गब्बर,आरक्षक अनवर एवं नवाज के साथ ही मेडिकल संचालक ईरशाद को भी लिया गया था। पूछताछ में यह साफ हो गया कि आरक्षक अनवर का भाई फारूक इंदौर रोड़ से स्प्रीट लाया था।उसने पम्मी लंगडे को बुलवाकर उससे 11 अक्टुबर को टेस्ट की झिंझर बनवाई और बाकी के सहयोग से बेची थी।13 अक्टुबर को फिर से इंदौर रोड़ से स्प्रीट लाकर झिंझर की पोटली बनाई गई,इस दौरान उनके एक साथी ने स्वाद को लेकर आपत्ति उठाई और कहा भी था कि इसमें बहुत तीखा पन है। पम्मी ने उसे नजरअंदाज कर दिया और 14 अक्टुबर को झिंझर की पोटलियां लेने आने वाले मजदूरों को बेच दी गई,जिसे पीने के बाद एक के बाद एक 13 मजदूरों की मौत हो गई।एसपी श्री सिंह के मुताबिक आरोपियों ने बताया कि एक बोटल स्प्रीट में दो अलपाझोल की टेबलेट डालकर उससे 5-6 पुडिया बनाने की बात आरोपियों ने स्वीकार की है।पुलिस ने आरोपी फारूक एवं पम्मी को भी मामले में गिरफ्तार कर लिया है।आरोपियों को अस्पताल में भर्ती 3-4 झिंझर पीने वाले प्रभावित मजदूरों ने पहचान कर अपने बयान दर्ज करवाएं हैं।

कलेक्टर आशीषसिंह के अनुसार आरोपियों से की गई पूछताछ के आधार पर मक्सीरोड़ उघोगपुरी स्थित एक फैक्ट्री एवं नानाखेड़ा क्षेत्र स्थित एक दुकान को रात में ही सील करवा दिया गया है।उनके यहां के केमिकल की जांच के लिए केमिकल के जानकारों को बुलवाया गया है।जांच के बाद सब साफ हो जाएगा। आरोपियों से बारिकी से पूछताछ की गई है।आरोपियों ने छत्रीचौक स्थित पुराना नगर निगम भवन के प्रथम तल को झिंझर बनाने और पार्किंग को विक्रय स्थल बना रखा था। पुलिस विभाग में देर शाम तक कुछ और पुलिस कर्मियों पर प्रकरण की संभावना जताई जा रही थी।

झिंझरकांड के विवेचना अधिकारी एवं खाराकुंआ थाना प्रभारी जितेन्द्र भास्कर के अनुसार प्रकरण में अब तक नगर निगम के अस्थाईकर्मी गब्बर, सिकंदर,के साथ आरोपी यूनूस,मेडिकल संचालक इरशाद,डा. जूनैद आरक्षक अनवर,नवाज शरीफ को गिरफ्तार कर लिया गया है।हिरासत में कुछ लोगों को लिया गया है उनमें संभवत: शामिल पम्मी एवं फारूक से अलग टीम पूछताछ कर रही है।