… तो क्या मोतीलाल नेहरु गद्दार थे?, सीएम शिवराज ने कमलनाथ से किया सवाल

0
6

शिवराज सिंह ने कहा- कांग्रेस ने जनता से छल किया, वादा खिलाफी की, गद्दारी की

ग्वालियर, बीजेपी के तीन दिवसीय सदस्यता अभियान के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ सीएम शिवराज सिंह चौहान के निशाने पर रहे। भाजपा के सदस्यता ग्रहण समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने श्री सिंधिया की तारीफ करते हुए कहा कि जब उन्होंने जनता की भलाई और प्रदेश के विकास की बात की तो उनके साथ अभद्र भाषा का प्रयोग किया गया। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर निशाना साधते हुए श्री चौहान ने श्री सिंधिया की ओर इशारा करते हुए कहा कि वोट इनके नाम पर मांगे और कुर्सी पर खुद बैठ गए। वहीं जब जनता और जनप्रतिनिधियों की सुनवाई नहीं होने की बात उठाई गई तो आप इन्हीं पर उंगली उठाने लगे।

सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि कांग्रेस ने जनता से छल किया, वादा खिलाफी की, गद्दारी आपने की और दोष दूसरे पर मढ़ते हो। तुम्हें जनता कभी माफ नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि जो भी कांग्रेस को छोड़कर जाता है, उसे गद्दार कहते हो। मुझे जरा बताई 1923 में खुद मोतीलाल नेहरू ने कांग्रेस छोड़कर स्वराज पार्टी बना ली, तो का वे गद्दार थे? नेताजी सुभाष चन्द्र बोस ने कांग्रेस छोड़ी, मोरारजी देसाई, बाबू जगजीवन राव, चौधरी चरण सिंह, जगन्नाथ मिश्र, एनडी तिवारी, बीजू पटनायक, शरद पवार, ममता बनर्जी सहित ऐसे बहुत से नेता हैं जिन्होंने कांग्रेस छोड़ दी। …तो क्या ये सब गद्दार हो गए? कमलनाथ जी जवाब दीजिए। कांग्रेस की नीतियों से परेशान होकर कई नेताओं ने पार्टी छोड़ने का काम किया। जब भी कांग्रेस से त्रस्त होकर कोई नेता उसे तिलांजलि देता है तो ये उन्हें बदनाम करने में लग जाते हैं लेकिन अपनी नीतियों को सुधारने के लिए ये तैयार नहीं होते हैं।

तल्ख लहजे में शिवराज सिंह ने कहा कि वहां चेहरा कमलनाथ का होता है लेकिन दिमाग जिसका होता है मैं उसका नाम भी नहीं लेना चाहता वरना मुझे नहाना पड़ेगा। इसलिए आपको तय करना है आपको वो जोड़ी चाहिए कि ये टीम, जो परिवार कि तरह काम करती है। उन्होंने हाथ उठवाकर और मुट्ठी बंधवाकर संकल्प दिलाया कि भाजपा और जनता से वादाखिलाफी करने वाली सरकार को धूल चटाने वालों को आने वाले उप चुनाव में प्रचंड जीत दिलाकर कांग्रेस को सबक सिखाएं।