कौशल विकास, व्यवसायिक शिक्षा एवं स्वरोजगार संबंधी प्रशिक्षण के लिए सम्मिलित कार्ययोजना तैयार करें – हर्षिका सिंह

0
3
prepare-a-joint-action-plan-for-skill-development-vocational-education-and-self-employment-training-harshika-singh

कौशल विकास, व्यवसायिक शिक्षा एवं स्वरोजगार संबंधी प्रशिक्षण के लिए सम्मिलित कार्ययोजना तैयार करें – हर्षिका सिंह

समीक्षा बैठक में कलेक्टर के निर्देश

prepare-a-joint-action-plan-for-skill-development-vocational-education-and-self-employment-training-harshika-singh

Syed Javed Ali
मण्डला (24 सितम्बर 2020) -रोजगार संबंधी योजनाओं की समीक्षा करते हुए कलेक्टर हर्षिका सिंह ने निर्देशित किया कि कौशल विकास, व्यवसायिक शिक्षा एवं स्वरोजगार संबंधी प्रशिक्षण के लिए सम्मिलित कार्ययोजना तैयार करें। उन्होंने विभागवार लक्ष्य की समीक्षा करते हुए संबंधित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए।

कलेक्टर हर्षिका सिंह ने निर्देशित किया कि संबंधित कार्यालयों में संधारित की जाने वाली कौषल पंजी का विश्लेषण कर जिले की आवश्यकताओं को चिन्हित करें तथा इसी आधार पर प्रशिक्षण की कार्ययोजना तैयार करें। उन्होंने कहा कि युवाओं को स्थानीय स्तर पर रोजगार उपलब्ध कराने के लिए आवश्यक है कि स्थानीय औद्योगिक इकाईयों से चर्चा कर उनकी आवश्यकताओं की जानकारी प्राप्त की जाए। मनेरी सहित जिले के अन्य स्थानों पर संचालित औद्योगिक इकाईयों की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए युवाओं को प्रशिक्षण की व्यवस्था की जाए। शैक्षणिक योग्यता के आधार पर भी युवाओं के लिए रोजगार के विकल्पों की सूची तैयार कर उन्हें समुचित मार्गदर्शन प्रदान किया जाए। उन्होंने जिले के युवाओं की जानकारी भारत सरकार श्रम मंत्रालय के पोर्टल पर भी अंकित करने के निर्देश दिए हैं। स्वरोजगार योजनाओं का प्रचार-प्रसार कर युवाओं को रोजगार से जोड़ने का प्रयास किया जाए। उन्होंने विभिन्न योजनाओं के तहत् लाभान्वित होने वाले हितग्राहियों के अनुभव सफलता की कहानी के रूप में युवाओं से साझा करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने निर्देशित किया कि जिले के प्रत्येक विद्यार्थियों को ई-विद्यालय से जोड़ने का प्रयास किया जाए। प्रत्येक रविवार को होने वाले क्विज में अधिक से अधिक बच्चों की सहभागिता सुनिश्चित की जाए। बैठक में अग्रणी बैंक प्रबंधक अमित केसरी, प्राचार्य पॉलीटेक्निक आरके परोहा, जिला रोजगार अधिकारी एलएस सैयाम सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

दिव्यांगजनों को रोजगार से जोड़ने पृथक से योजना बनाएं –
कलेक्टर हर्षिका सिंह ने कहा कि बहुत से ऐसे कार्य हैं जिन्हें दिव्यांगजन सरलता से कर सकते हैं। जरूरत है रोजगार देने वाले और रोजगार की तलाश करने वाले के बीच में सेतू का कार्य करने की। उन्होंने निर्देशित किया कि विकासखंड स्तर पर संचालित दिव्यांग कंट्रोल रूम में दिव्यांगजनों से संबंधित स्किल पंजी संधारित कर जानकारी संकलित की जाए। दिव्यांगजनों के कौशल विकास तथा उन्हें स्वरोजगार से जोड़ने के लिए पृथक से कार्ययोजना तैयार की जाए। दिव्यांगजनों की जानकारी भारत सरकार श्रम मंत्रालय के पोर्टल पर भी दर्ज करने की कार्यवाही की जाए।