पतंजलि ने पीएम केयर्स में दिए 25 करोड़

0
128

बाबा रामदेव ने उपचार के लिए मांगे कोरोना मरीज

नई दिल्ली, कोरोना के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से की गई अपील पर योग गुरु बाबा रामदेव ने भी आर्थिक सहयोग का ऐलान किया है। रामदेव ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर पतंजलि की ओर से पीएम केयर्स फंड में 25 करोड़ रुपये जमा कराए जाएंगे। उन्होंने आयुर्वेदिक उपचार के लिए सरकार से कोरोना के कुछ मरीजों की भी मांग की है। उन्होंने एक मरीज को ठीक करने का दावा भी किया है।

25 करोड़ रुपये की आर्थिक मदद
प्रधानमंत्री ने 135 करोड़ लोगों के देश को तैयार ही नहीं किया है, बल्कि इस जंग को काफी हद तक जीता भी है। उन्होंने सभी से वैश्विक त्रासदी से लड़ने के लिए सहायता की अपील की है। पतंजलि ने पहल करते हुए 25 करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता देने का फैसला किया है।

एक दिन का वेतन और आश्रम भी देंगे योगगुरु
बाबा रामदेव ने कहा, ‘पतंजलि और रुचि सोया के जितने भी पेरोल पर कर्मयोगी हैं वे भी एक दिन का वेतन देंगे। यह 1.5 करोड़ रुपये है। पतंजलि से जुड़े श्रद्धालुओं से भी अपील कर रहे हैं कि वे कोरोना के खिलाफ जंग में देश की मदद करें। हमने अपनी पांच संस्थाएं आपातकालीन सेवा के लिए देने की पेशकश की है। हरिद्वार का योगाग्राम और पतंजलि योगपीठ, मोदीनगर, गुवाहाटी, कोलकाता और सोलन में हम अपना आश्रम इलाज और आइसोलेशन के लिए उपलब्ध करा सकते हैं। इनमें करीब 1500 बेड लग सकते हैं। इसका सारा खर्च पतंजलि की ओर से उठाया जाएगा।

रामदेव ने दी योग की सालह
बाबा रामदेव ने कहा कि अमेरिका जैसे देश पस्त हो गए हैं, लेकिन भारत ने काफी हद तक कोरोना को काबू किया है। उन्होंने कहा कि देशभर में फैले प्रशिक्षति ट्रेनर और संसाधनों को वह लगाने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के साइड इफेक्ट्स हैं इनसे बचने के लिए लोग योग करें।

हमें भी उपलब्ध कराएं रोगी: रामदेव
बाबा रामदेव ने कहा, ‘पीएम नरेंद्र मोदी ने आयुष मंत्रालय के माध्यम से सुझाव मांगे तो मैंने कहा है कि हमें कुछ रोगी उपलब्ध कराए जाएं, जिनपर हम आयुर्वेद का प्रयोग कर सकें। चीन में भी एलोपैथिक के साथ चाइनीज दवाओं का इस्तेमाल किया गया। हमें भी कुछ रोगी दिए जाएं हम साइंटिफिक रूप से आयुर्वेद का एविडेंस बेस्ड इलाज देना चाहते हैं।’ उन्होंने दावा किया कि अभिषेक नाम के एक युवक को उन्होंने सात दिन में योग और प्रणायाम के जरिए पॉजिटिव से निगेटिव किया है। योगगुरु ने कहा, ‘सरकार ने जो चिकित्सा की दिशा निर्धारित की है मैं उसे नजरअंदाज करने को नहीं कह रहा हूं, लेकिन यदि आयुर्वेद को भी साथ में लिया जाता है तो हम मरीज को जल्दी ठीक कर सकते हैं और कोरोना की वजह से होने वाले दुष्प्रभावों भी कम कर सकते हैं।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here