इतिहास का पहला दिन लेवा के हीरामन बाबा मेले में गिने चुने भक्त पहुंचे

0
3

गणेश चर्तुथी के दिन कटते हैं हीरामन बाबा मंदिर में पीलिया के बंध

khemraj mourya
शिवपुरी। शिवपुरी से लगभग 30 किमी दूर ग्राम लेवा में स्थित हीरामन बाबा का मेला प्रतिवर्ष गणेश चर्तुथी के दिन लगता है। जिसमें देश और प्रदेश के लाखों लोग शामिल होते हैं। लेकिन मेले के इतिहास का आज पहला दिन है, जहां भक्तों की संख्या गिनी चुनी है। इस मंदिर पर पीलिया जैसी बीमारी के बंध काटने की मान्यता है और इस मान्यता के अनुसार आज के दिन जहां मेला भरता है।

लेकिन कोरोना ने लोगों की श्रृद्धा और भक्ति पर भी अतिक्रमण कर लिया है। प्रशासन ने महामारी के चलते लगने वाले मेले पर सुरक्षा की दृष्टि से प्रतिबंध लगा दिया है। इस प्रतिबंध के कारण वहां बंध नहीं काटे जा रहे और अगले वर्ष मंदिर में यह बंध कटेंगे। हीरामन बाबा के मेले में इतनी संख्या में भक्त आते थे कि उस जगह पर पैर रखने तक की जगह नहीं मिलती थी। मंदिर पर आने वाले श्रृद्धालुओं के लिए खाने पीने के साथ-साथ प्रसाद और कई तरह की दुकानें लगती थी। झूले होते थे, ग्रामीण परिवेश के नृत्य आदि कार्यक्रम आयोजित होते थे। लेकिन इस वर्ष इन सभी पर प्रतिबंध होने के कारण उन लोगों के व्यापार पर भी असर पड़ा है जो अपना रोजी रोजगार मेले में आकर करते थे।