NEET-JEE: जारी हुआ एडमिट कार्ड, एक कमरे में 12 छात्र बैठेंगे

0
6

नई दिल्ली, कोरोना वायरस संकट काल में हो रही NEET-JEE की परीक्षाएं चिंता का विषय बन गई हैं. छात्रों और विपक्षी पार्टियों की ओर से हो रहे लगातार विरोध के बीच सरकार पीछे हटती नहीं दिख रही है. इस बीच नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) के डीजी विनीत जोशी ने छात्रों की सुरक्षा और परीक्षा की तैयारियों को लेकर बात की.

विनीत जोशी ने बताया कि छात्रों की सुरक्षा सर्वोपरि है. परीक्षा केंद्र पर किस तरह सभी सावधानियों का पालन किया जाएगा और गाइडलाइन्स को लागू किया जाएगा इसकी ट्रेनिंग सभी को दी जा रही है. उन्होंने बताया कि वह खुद इस ट्रेनिंग मॉड्यूल में शामिल रहे हैं.

NTA के डीजी के मुताबिक, कोरोना संकट के कारण इस बार परीक्षा केंद्रों और विजिलेटर्स की संख्या में बढ़ोतरी की गई है. पिछले साल कुल 2546 सेंटर्स थे, लेकिन इस बार बढ़ाकर 3842 तक पहुंच गया है.

एक क्लासरूम में सिर्फ 12 स्टूडेंट्स बैठेंगे

सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर विनीत जोशी ने बताया कि पहले एक क्लासरूम में 25 स्टूडेंट रहते थे, लेकिन अब सिर्फ 12 बच्चों बैठाया जाएगा. छात्रों को लेकर NTA डीजी विनीत जोशी ने बताया कि हमने ABHYAS ऐप बनाई है, जिसके जरिए छात्रों को कोचिंग दी जा रही है. अबतक 16 लाख बार ये एप्लिकेशन डाउनलोड की जा चुकी है, जबकि छात्रों ने करीब सौ टेस्ट ऐप पर ही किए हैं.

NEET से इतर JEE परीक्षाओं को लेकर उन्होंने बताया कि इस बार छात्रों के लिए ऑड-ईवन सिस्टम लागू किया गया है. कोरोना वायरस के बीच सरकार परीक्षाओं के लिए आगे बढ़ रही है. करीब तीन घंटे में ही चार लाख से अधिक छात्रों ने अपने एडमिट कार्ड डाउनलोड कर लिए. NTA ने पहले ही साफ कर दिया है कि परीक्षा की तारीख आगे नहीं बढ़ाई जाएगी, दोनों के लिए करीब 23 लाख बच्चे परीक्षा देंगे.

आपको बता दें कि NEET-JEE की परीक्षा में 20 लाख के करीब छात्रों को हिस्सा लेना है. कोरोना वायरस संकट के कारण छात्रों की ओर से इन परीक्षाओं को टालने की मांग की जा रही है. कई राज्य सरकारें और राजनीतिक दल भी यही मांग कर रहे हैं.

हालांकि, बीते दिन ही NTA की ओर से नोटिफिकेशन जारी किया गया कि परीक्षाएं तय समय पर यानी सितंबर माह में ही होंगी. NTA ने इसी के साथ परीक्षाओं के लिए गाइडलाइन्स भी जारी कर दी हैं.