मोदी की दो टूक: उकसावे का जवाब देना जानता है भारत, भ्रम में ने रहें चीन

0
26

नई दिल्ली, चीन के साथ लददाख में LAC पर सोमवार रात हुई हिंसक झड़प के बाद दोनों ही देशों के बीच पैदा हुए तनाव से निपटने की कोशिशें जारी हैं। इस बीच पूरी घटनाक्रम पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहली प्रतिक्रिया आई है और उन्होंने चीन को साफ शब्दों में दो टूक कहा है कि वो किसी भ्रम में ना रहे, भारत उकसावे का जवाब देना जानता है। प्रधानमंत्री ने यह बाद देश के सभी राज्यों के साथ होने वाली अपनी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ठीक पहले कही है। साथ ही उन्होंने दो मिनट का मौन रखते हुए चीन सीमा पर शहीद हुए जवानों को नमन भी किया।

प्रधानमंत्री ने अपने बयान में कहा कि हमने हमेशा अपने पड़ोसियों के साथ सहोयोगात्मक तरीके से काम किया है। भारत शांति चाहता है लेकिन, उकसाने पर हर हाल में यथोचित जवाब देने में सक्षम है। हमारे दिवंगत शहीद वीर जवानों क विषय में देश को इस बात का गर्व होगा कि वे मारते-मारते मरे।
पीएम मोदी ने कहा कि देश को अपने वीर सपूतों की शहादत पर गर्व है। हम किसी को उकसाते नहीं लेकिन उकसाने पर अपनी संप्रभुता से समझौता नहीं करेगा और किसी को भ्रम या संदेश नहीं होना चाहिए, हम हर उकसावे का जवाब देना जानते हैं। जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमने हमेशा कोशिश की है कि मतभेद विवाद ना बने। हमारे लिए भारत की अखंडता और संप्रभुता सर्वोपरी है और इसकी रक्षा करने से हमे कोई भी रोक नहीं सकता। इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी के अलावा वीडियो कॉन्फ्रेंस में शामिल गृहमंत्री अमित शाह के अलावा सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने दो मिनट का मौन रख शहीद जवानों को नमन किया।
बता दें कि सोमवार रात गलवान घाटी में चीनी सेना द्वारा की गई हरकत के बाद दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई झड़प में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए हैं वहीं चीनी सेना के भी 45 सैनिकों के मारे जाने की सूचना है। इस घटना के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने उच्च स्तरीय बैठकें करते हुए हालात का जायजा लिया वहीं चीन के साथ हुई शांति के लिए बातचीत बेनतीजा रही है। इसके बाद सीमा पर अलर्ट है और प्रधानमंत्री मोदी ने भी 19 जून को इस मुद्दे पर एक सर्वदलीय बैठक बुलाई है।