कमलनाथ का वादा, चुनाव जीते तो कोरोना से परिवार के मुखिया की मृत्यु होने पर परिजनों को देंगे संविदा नौकरी

0
8

भोपाल, प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव को जीतने के लिए कांग्रेस ने कोरोना महामारी का सहारा लिया है। कांग्रेस ने अपने वचन पत्र में कोरोना से परिवार के मुखिया की मृत्यु होने पर उसके परिवार को सरकारी संविदा नौकरी देने का वचन दिया है। इतना ही नहीं कांग्रेस ने कोरोना को लेकर अपने वचन पत्र में और भी वचन दिए हैं। इनमें कोरोना संक्रमण को राजकीय आपदा घोषित करने और कोरोना से मृत्यु होने पर परिवार को अनुग्रह राशि देने की बात भी कही गई है। इसके साथ ही महामारी से प्रभावित क्षेत्र के फुटकर विक्रेताओं को 50 हजार रुपये तक का लोन शून्य ब्याज पर देने का वचन भी दिया है।

बताया जा रहा है कि 28 वचन पत्र तैयार करवाने के पीछे प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ का विजन है। उनका मानना है कि हर विधानसभा सीट की अपनी अलग मांग होती है ऐसे में सभी के लिए एक सा पत्र रखना ठीक नहीं होगा। इसके लिए अलग अलग पत्र तैयार करवाएंगे ताकि हर सीट के मतदाता को उसकी जरुरत का वचन दिया जा सके।

कांग्रेस ने अपने कुछ पुराने वचनों को भी इसमें शामिल किया है। जिन्हें सरकार बनने पर कांग्रेस ने अपने 15 महीनों के कार्यकाल में निभाया था। इनमें 100 यूनिट बिजली 100 रुपये में देने का वचन कांग्रेस फिर दिया है। इसके साथ ही लंबे समय से अतिथि शिक्षकों के नियमितीकरण व अन्य मांगों को लेकर व सरकारी कर्मचारियों का डीए एवं वेतनवृद्धि की बात को भी कांग्रेस ने पत्र में शामिल किया है।

कांग्रेस ने उपचुनाव के लिए अनूठा पैंतरा अपनाया है। 28 विधानसभा सीटों के लिए एक वचन पत्र तैयार न करवाकर बल्कि उसके स्थान पर हर विधानसभा सीट की जरुरत के अनुसार वचन दिए हैं। जबकि मुख्य चुनाव में कांग्रेस ने एक ही वचन पत्र बनवाया था लेकिन इस बार अलग रणनीति बनाई है।

प्रदेश के 28 विधानसभा सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव में बहुजन सोशल फं्रट (बीएसएफ) ने कांग्रेस को अपना समर्थन दिया है। बीएसएफ चुनाव में सभी 28 सीटों पर कांग्रेस के साथ मिलकर उसकी जीत के लिए काम करेगा। दोनों दलों के बीच यह करार आज पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के निवास पर हुआ। इसके साथ ही फ्रंट के प्रतिनिधि मंडल ने नाथ से मुलाकात की ओर अपना पूर्ण समर्थन देने की बात कही। इस मौके पर फ्रंट के राष्टÑीय सचिव जयपाल सिंह ने कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की।