मोदी सरकार के राहत पैकेज में किसान, श्रमिकों और छोटे व्यापारियों के लिए सौगात – भीष्म द्धिवेदी

0
459
in-the-relief-package-of-modi-government-gifts-for-farmers-workers-and-small-traders-bhishma-dwivedi

मोदी सरकार के राहत पैकेज में किसान, श्रमिकों और छोटे व्यापारियों के लिए सौगात – भीष्म द्धिवेदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का जताया आभार

in-the-relief-package-of-modi-government-gifts-for-farmers-workers-and-small-traders-bhishma-dwivedi

मण्डला – भारतीय जनता पार्टी जिला अध्यक्ष भीष्म द्धिवेदी ने मोदी सरकार के दूसरे चरण के राहत पैकेज पर कहा कि गरीब कल्याण भारतीय जनता पार्टी की केंद्र व राज्य सरकार का बड़ा एजेंडा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा दिए गया राहत पैकेज गरीब कल्याण का प्रतिबिंब है। राहत पैकेज के दूसरे चरण में प्रवासी श्रमिकों, स्ट्रीट वेंडर, छोटे व्यापारियों और किसानों को सौगात दी है। राहत पैकेज के माध्यम से 8 करोड़ प्रवासी श्रमिकों को अगले 2 महीने तक 5 किलो गेहूं, चावल और चना मिलेगा। वन नेशन-वन राशनकार्ड स्कीम लागू होने से गरीब व्यक्ति को देश के किसी भी हिस्से में आसानी से राशन मिल सकेगा। श्री द्धिवेदी ने गुरूवार को वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण द्वारा राहत पैकेज में दूसरे चरण में अप्रवासी श्रमिकों, किसानों, छोटे व्यापारियों के लिए की गयी अहम घोषणाओं के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण का आभार जताया है।

उन्होंने कहा कि देश की जीडीपी के लगभग 10 प्रतिशत के बराबर इस अभूतपूर्व पैकेज में समाज के हर तबके, हर वर्ग और हर क्षेत्र का विशेष ध्यान रखा गया है। वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने पहले चरण में छोटे व्यवसायों, रियल एस्टेट, संगठित क्षेत्र के वर्कर और अन्य लोगों के लिए करीब 6 लाख करोड़ की घोषणाएं की थी। गुरूवार को राहत पैकेज के दूसरे चरण में वित्त मंत्री ने अप्रवासी मजदूर, स्ट्रीट वेंडर, छोटे व्यापारियों के साथ किसानों को बडी राहत दी है। किसानों को दिए जाने वाले कर्ज पर ब्याज में छूट की स्कीम 31 मई तक बढा दी गयी है, साथ ही अप्रवासी मजदूरों को जो अपने घरों की ओर लौट रहे है उन्हें वहीं पर काम देने की कार्ययोजना सरकार ने बनाई है। उन्होंने कहा कि कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे, इसका विशेष ध्यान रखा गया है जिसके तहत अगले 2 महीनों तक मजदूरों को फ्री राशन देने का निर्णय भी केन्द्र सरकार ने लिया है। इसके लिए 3500 करोड रूपए का प्रावधान किया है। जिसमें 5-5 किलो गेंहू या चावल और 1 किलो चना प्रति परिवार 2 माह तक देने का निर्णय कर उसके जीवनयापन की चिंता की है।

श्री द्धिवेदी ने कहा कि आत्म निर्भर भारत अभियान के तहत देश के विकास को गति देने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने 20 लाख करोड़ का विशेष पैकेज देकर न सिर्फ कोरोना संकट से अर्थव्यवस्था को उबारने की दिशा में निर्णय लिया है बल्कि इस निर्णय से अर्थव्यवस्था और विकास को गति मिलेगी। उन्होंने कहा कि इस राहत पैकेज से देश के समस्त मध्यमवर्ग के लोगों को भी फायदा मिलेगा, जो देश के विकास में भागीदार बने हुए है। मनरेगा के तहत श्रमिकों को मिलने वाली राशि 182 से बढाकर 202 रूपए कर दी है। वहीं किसानों को 31 मई तक कर्ज के ब्याज पर छूट दी गयी है। छोटे व्यापारियों को मुद्रा योजना के तहत 50 हजार के कर्ज पर 2 प्रतिशत ब्याज की राहत देने का निर्णय स्वागत योग्य है।