वनवासियों के हितों के लिए सरकार संकल्पित

0
5
government-committed-to-the-interests-of-forest-dwellers

वनवासियों के हितों के लिए सरकार संकल्पित

वनाधिकार उत्सव पर वनवासियों को वितरित किए गए हकपत्र

government-committed-to-the-interests-of-forest-dwellers

Syed Javed Ali
मण्डला (19 सितम्बर 2020) – वनाधिकार उत्सव में उपस्थित हितग्राहियों को संबोधित करते हुए राज्यसभा सांसद संपतिया उईके ने कहा कि वनवासियों के हितों के लिए सरकार संकल्पित है। विभिन्न योजनाओं के माध्यम से सरकार जल, जंगल और जमीन पर उनकी भागीदारी सुनिश्चित कर रही है। जिला योजना भवन में संपन्न हुए इस कार्यक्रम में जिला पंचायत अध्यक्ष सरस्वती मरावी, उपाध्यक्ष शैलेष मिश्रा, नगरपालिका उपाध्यक्ष गिरीश चंदानी, कलेक्टर हर्षिका सिंह, समस्त वन मंडलाधिकारी, समाजसेवी राकेश तिवारी सहित अन्य जनप्रतिनिधि तथा चिन्हित हितग्राही उपस्थित रहे।

राज्यसभा सांसद संपतिया उईके ने कहा कि वन भूमि पर काबिज लोगों को वन अधिकार हकपत्र जारी कर सरकार ने वंचित लोगों की सेवा के संकल्प को दोहराया है। उन्होंने जिला प्रशासन से वनाधिकार के लंबित प्रकरणों का नियमानुसार जल्द निराकरण करने का आग्रह किया। जिला पंचायत अध्यक्ष सरस्वती मरावी ने कहा कि वनाधिकार हकपत्र जारी करने में जिला प्रशासन द्वारा अत्यंत संवेदनशीलता से काम किया जा रहा है जो सराहनीय है। जिला पंचायत उपाध्यक्ष शैलेष मिश्रा ने कहा कि वनाधिकार हकपत्रों के माध्यम से सरकार ने वनांचलवासियों को भू-स्वामी बनाया है। उन्होंने ऐसे जनहितैषी नीतियों के लिए सरकार का धन्यवाद ज्ञापित किया। इस अवसर पर कलेक्टर हर्षिका सिंह ने कहा कि प्रत्येक पात्र व्यक्ति को समय सीमा में वनाधिकार हकपत्र देने का प्रयास किया जा रहा है। जिले में 747 वनाधिकार हकपत्र जारी किए गए हैं जिसकी प्रदेश स्तर पर भी सराहना हुई है। कलेक्टर ने कहा कि वनवासियों को सूचीबद्ध कर प्रधानमंत्री आवास, मनरेगा सहित शासन की अन्य योजनाओं से भी लाभान्वित किया जा रहा है। इन हितग्राहियों को आर्थिक गतिविधियों से जोड़ने के लिए विभिन्न विभागों की सम्मिलित कार्ययोजना तैयार की जा रही है। इससे पूर्व कार्यक्रम के प्रारंभ में सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विभाग विजय तेकाम ने कार्यक्रम का प्रतिवेदन प्रस्तुत करते हुए जानकारी दी कि जिले में अब तक 12891 व्यक्तिगत दावे के आवेदन प्राप्त हुए थे जिनमें से 2602 दावे अमान्य किए गए थे। शासन के निर्देशानुसार अमान्य दावों का ऑनलाईन प्रक्रिया के माध्यम से पुनः परीक्षण किया गया जिनमें 747 दावे मान्य किए गए हैं जिनको आज जिला स्तर एवं विकासखंड स्तर पर आयोजित कार्यक्रमों के माध्यम से वनाधिकार पत्रों का वितरण किया जा रहा है। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के संबोधन का एलईडी से सीधा प्रसारण किया गया। इसके पश्चात हितग्राहियों को वनाधिकार हकपत्रों का वितरण किया गया। कार्यक्रम के अंत में सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विजय तेकाम द्वारा आभार प्रदर्शन किया गया। संचालन अखिलेश उपाध्याय ने किया।