एएसपी को हटाने की मांग को लेकर धरने पर बैठीं कांग्रेस की गाडरवारा विधायक

0
5

एएसपी पर सट्टा-जुआ शराब और अवैध खनन के काले कारोबार को संरक्षण देने का आरोप

अल्टीमेटम की मियाद खत्म और सुनीता का बेमियादी एक्शन शुरू

श्रीमती पटेल को मिला कमलनाथ का समर्थन, विधानसभा सत्र में सज्जन सिंह ने उठाया मामला

भोपाल। कांग्रेस की फायर ब्रांड नेता और गाडरवारा की विधायक सुनीता पटेल अपनी राजनैतिक पृष्ठभूमि की पुनरावृत्ति और पुराने तेवरों के साथ फिर मैदान में हैं। जिले में पदस्थ अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पर सट्टा-जुआ शराब और अवैध खनन के काले कारोबार को संरक्षण देने का आरोप लगाते हुए वे उन्हें जिले से हटाए जाने की मांग कर रही थी। श्रीमती पटेल के अल्टीमेटम की मियाद पूरी होते ही उन्होंने बेमियादी एक्शन शुरू कर दिया है । विधायक एएसपी को हटाए जाने की मांग के साथ ही विधानसभा परिसर में ही अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गई हैं। विधायक के धरने पर पहुंचकर जहां पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने उनका खुला समर्थन किया वहीं विधानसभा सत्र के दौरान पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने इस मामले को मुखरता के साथ सदन में उठाया है ।

मुख्यमंत्री के सामने युवाओं ने किया प्रदर्शन
विधायक श्रीमती सुनीता पटेल के समर्थन और अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश तिवारी के विरोध में जिले से बड़ी संख्या में युवा भी भोपाल पहुंचे हैं । इनमें से कुछ युवाओं ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के काफिले के सामने विरोध प्रदर्शन भी किया। युवाओं ने एडिशनल एसपी को हटाए जाने की मांग के पोस्टर बैनर मुख्यमंत्री के काफिले के सामने लहराए ।

काम नहीं आया अधिकारियों का निवेदन
धरने पर बैठने के पूर्व पुलिस विभाग के कुछ आला अधिकारी विधायक श्रीमती पटेल से चर्चा करने धरना स्थल पर पहुंचे थे। उन्होंने उनकी मांग के अनुसार उचित कार्रवाई करने का भरोसा दिलाते हुए उनसे विधानसभा परिसर में धरने पर ना बैठने का निवेदन किया था। परंतु अधिकारियों का निवेदन काम नहीं आया और श्रीमती पटेल ने अनिश्चितकाल के लिए विधानसभा परिसर में ही धरना शुरू कर दिया है ।श्रीमती पटेल की सुरक्षा के मद्देनजर महिला अधिकारी की ड्यूटी लगाई गई है।

तीखे तेवरों के लिए जानी जाती हैं सुनीता
जिले की राजनीति में श्रीमती सुनीता पटेल को तीखे तेवरों के लिए जाना जाता है । कांग्रेस सरकार के दौरान भरे मंच से उन्होंने अवैध खनन का खुला विरोध किया था । वहीं पूर्व में जनहित से जुड़े अनेक मुद्दों पर वे हल्ला बोल प्रदर्शन कर चुकी है। खास बात यह है कि हर प्रदर्शन में उन्हें आम जनों और खास तौर पर समाज के निचले तबके का खुला समर्थन मिलता आया है। अपने कई संघर्षों को अंजाम तक पहुंचा चुकी गाडरवारा विधायक की इस नई मांग पर क्या कार्रवाई होती है यह आने वाला समय ही बताएगा। पर इतना जरूर है कि विधायक की खिलाफत के साथ अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश तिवारी जिले से लेकर राजधानी भोपाल तक घिरे नजर आ रहे हैं।