देश में जल्द लागू होंगे चार लेबर कोड, बढ़ेगा पीएफ में योगदान, हाथ में आएगी कम सैलरी

0
2

नई दिल्ली, देश में जल्द ही चार लेबर कोड लागू होने वाले हैं। केंद्र सरकार ने इसकी पूरी तैयारी कर ली है। जिसके परिणामस्वरूप कर्मचारियों के हाथ में आने वाली सैलरी कम हो जाएगी। वहीं पीएफ में योगदान बढ़ जाएगा, जो उन्हें भविष्य में फायदेमंद होगा। एक बार वेतन संहिता लागू होने के बाद कर्मचारियों के मूल वेतन और भविष्य निधि की गणना के तरीके में भी महत्वपूर्ण बदलाव होंगे।

44 केंद्रीय श्रम कानूनों को युक्तिसंगत बनाएगी ये चार लेबर कोड

श्रम मंत्रालय ने औद्योगिक संबंधों, मजदूरी, सामाजिक सुरक्षा और व्यावसायिक स्वास्थ्य सुरक्षा और काम करने की स्थिति पर चार नियम लेकर आई है। ये चार लेबर कोड 44 केंद्रीय श्रम कानूनों को युक्तिसंगत बनाएगी। मंत्रालय ने लेबर कोड्स के तहत नियमों को अंतिम रूप दे दिया, लेकिन इन्हें लागू नहीं किया जा सका क्योंकि कई राज्य अपने अधिकार क्षेत्र में इन कोड्स के तहत नियमों को अधिसूचित करने की स्थिति में नहीं थे। बता दें भारत के संविधान के तहत श्रम एक समवर्ती विषय है। इसलिए केंद्र और राज्यों दोनों को अपने-अपने अधिकार क्षेत्र में भूमि के कानून बनाने के लिए इन चार संहिताओं के तहत नियमों को अधिसूचित करना होगा।

कई राज्य नियमों को अंतिम रूप देने की प्रक्रिया में

कई प्रमुख राज्यों ने चार संहिताओं के तहत नियमों को अंतिम रूप नहीं दिया है। कुछ प्रदेश इन कानूनों के कार्यान्वयन के लिए नियमों को अंतिम रूप देने की प्रक्रिया में हैं। केंद्र सरकार इन संहिताओं के तहत नियमों को मजबूत करने के लिए राज्यों के लिए लंबे समय तक इंतजार नहीं कर सकती है। इसलिए यह लागू करने की योजना बना रही है। सूत्र के मुताबिक, कुछ राज्यों ने मसौदा नियमों को पहले ही परिचालित कर दिया था। ये राज्य हैं उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, हरियाणा, ओडिशा, पंजाब, गुजरात, कर्नाटक और उत्तराखंड।

50 प्रतिशत होगी भत्तों की अधिकतम सीमा

नए वेतन संहिता के तहत भत्तों की अधिकतम सीमा 50 प्रतिशत है। इसका मतलब है कि एक कर्मचारी के सकल वेतन का आधी मूल सैलरी होगी। भविष्य निधि योगदान की गणना मूल वेतन के प्रतिशत के रूप में की जाती है, जिसमें मूल वेतन और महंगाई भत्ता शामिल होता है। ईपीएफओ और आयकर व्यय को कम करने के लिए बेसिक सैलरी कम रखने के लिए नियोक्ता वेतन को कई भत्तों में विभाजित कर रहे हैं। नया वेतन संहिता सकल वेतन के 50 प्रतिशत के निर्धारित अनुपात के रूप में भविष्य निधि योगदान का प्रावधान करती है।

नियोक्ताओं की भविष्य निधि देयता बढ़ जाएगी

नए कोड के लागू होने के बाद, कर्मचारियों का टेक-होम वेतन कम हो जाएगा, जबकि कई मामलों में नियोक्ताओं की भविष्य निधि देयता बढ़ जाएगी। एक बार लागू होने के बाद, नियोक्ताओं को वेतन पर नए कोड के अनुसार अपने कर्मचारियों के वेतन का पुनर्गठन करना होगा। इसके अलावा, नया औद्योगिक संबंध कोड से बड़ा बदलाव होगा। वर्तमान में 100 कर्मचारियों तक वाली सभी फर्मों को ले-ऑफ, छंटनी और बंद करने के लिए सरकारी अनुमति से छूट दी गई है। लेकिन कानून लागू होने से ऐसा नहीं हो पाएगा।